Jan 20, 2018

अनोखा बंधन


जीवन में आस्था रखो, परमात्मा पर आस्था रखो. तुम्हे जो भी मिला है उसका आनंद लो. परमात्मा को हर बात के लिए धन्यवाद देते रहो. कृतज्ञ हो जाओ इस तरह कि हर साधारण घट्ना भी पवित्र हो उठे. जीवन की हर बात, हर चीज़ साधारण से पवित्र हो जाये.

जब आप इस तरह के नजरिये से चीजों को देखना शुरु कर देतें हैं तो जीवन से बुरी चीजें अलविदा होनी शुरू हो जातीं हैं और आप असीम शांति और सौभाग्य से भर उठते हैं. ये ही जीवन की प्राप्ति है, बाकि सब मृत्यु.

जीवन की छोटी-छोटी बातों का उत्सव मनाते चलिए. नाचते- गाते चलिए, मुस्कुराते चलिए.

ईश्वर ने हमें गंभीर होने के लिए नहीं बल्कि हास्यबोध के साथ हँसते –खेलते हुए रहने के लिए ये जीवन दिया है.

गंभीरता तो मृत्यु का आहवान है. हास्य जीने की निशानी.

प्रार्थना और दिव्यता के साथ हँसते – गाते आगे बढ़ते रहिये. ये सब दोबारा नहीं मिलने वाला.

गंभीरता एक रोग है, एक बीमारी है ग़लतफहमी है कि हम समझदार बन रहे हैं. ये आपको विनम्र नहीं बना रही, ये आपको कठोर बना रही है. फिर आप झुक नहीं पाओगे, जज बनते जाओगे. हर बात को तराजू में रख कर तोलने लगोगे और जिंदगी भर ये करते करते जब मौत आएगी तो सोचोगे की मैं जिया कहाँ ?

अभी वक़्त है, समझने का कि तुम हँसना सिख लो. अभी आसान है, बाद में दिक्कत होगी. चाह के भी हास्य पैदा नहीं कर पाओगे. इसलिए हंस पड़ो. इसकी वजह मत खोजो, बस हंस पड़ो.

मत भूलो कि न कोई पशु हँसता है न ही कोई पक्षी. नेचर ने तुम्हे गिफ्ट दिया है तुम हंस सको और तुम्हे रोने-धोने से ही फुर्सत नहीं है. क्या करोगे इतना रोके, चिल्लाके, गंभीर होके. आओ जी लो थोड़ा. कल ये हँसी बड़ी मिस करोगे फिर.

तुम महान हो, अनोखे हो और तुम्हें किसी से तुलना करने की ज़रूरत नहीं. तुम्हें और बाकी सभी को बिलकुल अलग- अलग और स्पेशल बनाया है ख़ुदा ने. क्यों परेशान हो ?

आओ मिलकर इस दुनिया को इतना खुबसूरत बना दें की हमें बनाने वाले ख़ुदा का भी मन करे कि वो भी हमारे बीच आये और खिलखिलाए. बस ये ही जिंदगी हमसे चाहती है.

चलो अब देखों आसपास की घटनाओं को और उसमें से अपना हास्यबोध निकाल लो. अब तुम्हे कोई परेशानी नहीं बची. अब तुम ओरिजिनल हो गए. अब आराम से जी सकोगे. बिना डरे, बिना मरे.

21 दिन रोज प्रैक्टिस करो हँसने की और तुम हँसना सीख लोगे. क्योंकि ये भी करना इतना मुश्किल नही.

टिप ऑफ़ द डे: हँस लो दोस्तों. इट्स फ्री. और जीवन अपने आप में एक अनोखा बंधन है. ये तुम्हें हँसने से दूर नहीं जाने देगा.


ये पोस्ट आपको कैसी लगी ?  कृपया अपने कमेंट्स व सुझाव ज़रूर दें ताकि हम आपके लिए और अच्छा कंटेंट प्रेजेंट कर सकें.
थैंक यू फॉर वाचिंग दिस ब्लॉग. स्टे कनेक्टेड. स्टे पॉजिटिव. स्टे हैप्पी.