Feb 3, 2018

पैरामेडिकल जॉब्स



MBBS में एडमिशन के सपने हर मेडिकल स्टूडेंट देखता है. उसके लिए भरपूर मेहनत भी करता है. कोचिंग भी लेता है. लेकिन लाखों स्टूडेंट्स के पीछे कुछ हजारों Seats ही MBBS की होती हैं. 

ऐसे में कई बार स्टूडेंट्स MBBS एंट्रेंस qualify करने में चूक जाते हैं और फिर उन्हें लगता है कि अब वो क्या करें? फिर वो डिप्रेशन में आ जाते हैं. आप बिलकुल ऐसा न करें. घबराने की कोई जरुरत नहीं हैं. करोड़ों लोग इस दुनिया में रहते हैं और हर कोई MBBS नहीं कर सकता. इसलिए निराश बिलकुल नहीं होना है. 

अगर आप MBBS में एडमिशन नहीं ले पाए तो मेडिकल फील्ड में कई ऐसे प्रोग्राम हैं जिनमे आप अपना अपना शानदार भविष्य बना सकते हैं. पैरामेडिकल साइंस भी उनमे से एक है. 

अगर आप लोगों की सेवा करने के साथ-साथ अपना भविष्य भी बनाना चाहते हैं, तो फिर आप पैरामेडिकल के क्षेत्र में खुद को आजमा सकते हैं.

ये वर्ल्ड का सबसे ज्यादा सेवाभाव का पेशा है और आप हैरान होंगे कि मेडिकल फील्ड का ऐसा कोई एरिया नही, जिसमें पैरामेडिकल स्टाफ की जरूरत न पड़ती हो. पैरामेडिकल स्टाफ के बिना तो MBBS डॉक्टर्स भी काम नहीं कर सकते.

क्या है Paramedical Science?
पैरामेडिकल मेडिकल साइंस का ही एक महत्वपूर्ण फील्ड है. पैरामेडिकल स्टाफ डॉक्टर के अहम असिस्टेंट के रोल में रहते हैं. ये लोग एक्स-रे, फिजियोथेरेपी, अल्ट्रासाउंड, डायग्नोसिस और मेडिकल लैब अटेंडेंट आदि का काम  सँभालते हैं और मरीज के इलाज़ के दौरान पूरी मेडिकल टीम को सपोर्ट करते हैं.

आइये जानें कि क्या है Paramedical Career में ख़ास?
इस फील्ड में आप 10वीं और 12वीं के बाद अपनी रूचि के अनुसार अलग-अलग Courses में एडमिशन ले सकते हैं.

उदाहरण के लिए नर्सिंग, रेडियोलॉजिस्ट, ऑप्टोमेट्रिस्ट, माइक्रोबायोलॉजिस्ट, ऑडियोलॉजिस्ट, स्पीच थेरेपिस्ट, ऑपरेशन थिएटर असिस्टेंट, मल्टीपर्पस हेल्थ वर्कर, मेडिकल लैब असिस्टेंट जैसे कोर्स को कर के आप मानव सेवा के साथ-साथ अच्छी कमाई कर सकते हैं. भारत के अलावा विदेशों में भी पैरामेडिकल स्टाफ़ की बहुत ज्यादा डिमांड रहती है और हमेशा रहेगी.

1.  कॉर्पोरेट हेल्थ केयर सेंटरों के उभर कर आने से भारत में ही 2020 तक लगभग 12 लाख से ज्यादा पैरामेडिकल स्टाफ की जरुरत होगी. अगर आप मेहनत और लगन से काम करना सीख गए तो कभी बेरोजगार नहीं होंगे.

2.  अगर आप विदेश में सेटल होना चाहते हैं तो भी पैरामेडिकल फील्ड आपको बहुत सहारा देगा. आप हैरान होंगे ये जानकर कि पूरे विश्व में लगभग 25% पैरामेडिकल स्टाफ भारतीय होते हैं. देखिये, कितना Scope है आपके लिए. 2020 तक दुनिया को 43% भारतीय पैरामेडिकल स्टाफ की जरुरत होगी. यूरोप के देशों में भारतीय पैरामेडिकल स्टाफ को बहुत अहमियत दी जाती है क्योंकि हम भारतीय सेवाभाव में पूरे वर्ल्ड में नंबर 1 होते हैं.


3.  अगर आप इस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, तो आप 10वीं या फिर 12वीं या Graduation के बाद पैरामेडिकल के अपने पसंदीदा कोर्स में एडमिशन लेकर अपना करियर संवार सकते हैं. शुरुआती दौर में प्राइवेट सेक्टर में 12-15,000 रूपए से आपकी नौकरी शुरू होती है. सरकारी अस्पतालों में मासिक सैलरी 35-40,000 रुपये तक होती है. विदेश में काम करते हैं तो लगभग 1 लाख रुपये तक की सैलरी से शुरुआत हो सकती है. जैसे-जैसे आपका Experience बढेगा आपकी सैलरी में भी इन्क्रीमेंट होता रहेगा.

4.  इस फील्ड में काम काम करने के लिए आपमें कुछ खासियतें जरुर होनी चाहियें. जैसे कि कम्युनिकेशन स्किल्स, शांत स्वभाव, टाइम मैनेजमेंट, लर्निंग एबिलिटी, पॉजिटिव थिंकिंग आदि.


5.  अधिक जानकारी के लिए पैरामेडिकल कोर्सेस से जुड़े अच्छे संस्थानों की जानकारी प्राप्त करते रहिये. आप केंद्रीय सरकार द्वारा स्थापित संस्था की वेबसाइट paramedicalcouncilofindia.org पर क्लिक करके भी जानकारी पा सकते हैं.



बेस्ट ऑफ़ लक. क्या पता, आप सबकी सेवा करते हुए खुश रहने के लिए ही पैदा हुए हों?