Feb 15, 2018

लर्निंग जोन





Life है तो Nature है, Science है, Situations हैं. 

Situations हैं तो Thoughts हैं. 

Thoughts के According ही बन जाता है Mindset.

Mindset क्या है?

हमारी अपने और दूसरों के बारे में राय या Belief (सेल्फ-थ्योरी) को Mindset’ कहा जाता है.

Mindset के विचार ने Education Sector के अलावा दूसरे सभी Sectors में भी लोगों के सोचने और चीज़ों को देखने का नज़रिया बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.


जैसा Mindset हमने बना लिया. उसी के अनुसार ही कोई एक Situation हमारे लिए Problem है यानि Negativity है और किसी और के लिए वो ही Situation शायद Solution यानि Positivity है. 

इसे सरल भाषा में मनोविज्ञान कहा जाता है क्योंकि ये मन और दिमाग की Parellel Processing से जुड़ा मामला है.

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की प्रोफ़ेसर कैरेल ड्वेक की लिखी एक किताब है. नाम है “Mindset”.

इस किताब में वे ‘Growing Mindset‘ का विचार पुट करती हैं. 

उनकी Research कहती है कि हम अपने मस्तिष्क के सीखने और समस्याओं का समाधान करने की क्षमता बढ़ा सकते हैं.” 

उनके मुताबिक 
"इस संसार का कोई भी आदमी सिर्फ़ "माइंडसेट" के आधार पर जीता है और उसके अनुसार ही व्यवहार दिखाता है."

Mindset 2 type के हो सकते हैं.
1. Fixed Mindset  

2. Growing mindset 

उनके अनुसार, Fixed Mindset रखने वाले लोग मानते हैं कि Intelligence और Creativity स्थायी हैं और इन्हें बदला नहीं जा सकता.

Fixed Mindset रखने वाले लोग क्या करते हैं? 

प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक

1. ऐसे लोग असफलता से बचने की कोशिश करते हैं.

2. ज़िम्मेदारी लेने के नाम से घबरा उठते हैं.

3. Excuses देकर तितर-बितर होने का प्रयास करने लगते हैं.

4. कमियाँ गिनाकर किसी भी काम को सही तरीके से पूरा करने में कोई दिलचस्पी नहीं ले पाते और हमेशा खुद को सही साबित करने की जुगत में लगे रहते हैं.

5. ये भीड़ में बड़े Confident दिखाई पड़ते हैं क्योंकि वहां इन पर ज़िम्मेदारी का कोई बोझ नहीं होता लेकिन जैसे ही इनको कोई ज़िम्मेदारी लेने को कहा जाये, ये Argument करने पर उतारू हो जाते हैं.

6. पब्लिक में इनकी इमेज एक Negative Critic की बन कर रह जाती है क्योंकि अमूमन ये पीठ पीछे लोगों के बारें में ज्यादा Discuss करते देखे जाते हैं. सीखना बंद कर देते हैं.

7. ये आस-पास के माहौल को पूरी तरह Negative बना देते हैं और हमेशा दूसरों की गलतियां निकालने में सबसे ज्यादा व्यस्त मिलेंगे. दूसरों की आलोचना कर देते हैं लेकिन ख़ुद की आलोचना सहन करना इनके लिए बेहद मुश्किल होता है.

8. अपने Mindset के चलते ये लोग यकीन के काबिल नहीं बन पाते. Thankless जीवन गुज़ार देते हैं. ये आपकी Position को महत्व देते हैं.

9. दूसरों की खिंचाई करके ख़ुश महसूस करते हैं. ख़ुद पर कम Work-out करते हैं. नए विचारों के लिए कोई Space नहीं रख पाते.

10.  समय के साथ अपनी Relationships बदलते रहते हैं. वफ़ादार नहीं रह सकते. मदद की बातें करते मिलेंगे लेकिन Actual में मददगार हो नहीं पाते. Image-mgt. में माहिर होते हैं.

11.  ज्यादातर Introvert हो जाते हैं. व्यावहारिक बन कर Safe रहना पसंद करते हैं. Comfort Zone में रहना इन्हें बेहद पसंद होता है.

12.  हमेशा Problem Oriented Talk करते देखे जा सकते हैं


प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक ऐसे लोगों की काउंसलिंग करना बेहद ज़रूरी होता है अन्यथा वो उस स्थान को बर्बाद कर देते हैं जहां वो रहते हैं. सही दिशा में कोशिश की जाये तो ही इन्हें बदला जा सकता है. कोई अप्रत्याशित घटना इनके स्वभाव में सही बदलाव लाने में सहायक सिद्ध हो सकती है.  



Growing Mindset  रखने वाले लोग क्या करते हैं?

प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक

1. वे लोग अपने और अपने आस-पास के लोगों के लिए ख़ुशी और सफ़लता का पैमाना Decide करते हैं.

2. Team Work में काम करना बेहद पसंद करते हैं. सीखना ज़ारी रखते हैं. 

3. अपने आस-पास के हर व्यक्ति की खूबियों को आगे लाने में मदद करते हैं. ये आपकी Position को नहीं बल्कि आपको महत्व देते हैं.

4. कई Choices में से काम के सबसे अच्छे तरीके Select करने की कोशिश करते हैं. Positive Criticism का स्वागत करते हैं.

5. ज़िम्मेदारी को स्वीकार करके आगे बढ़ते है. हार की ज़िम्मेवारी खुद पर लेते हैं. जीत का श्रेय अपने साथियों को देते हैं. मददगार होते हैं.

6. किसी भी Challenge और Defeat को भी आगे बढ़ने का एक अवसर मान कर चलते हैं.

7. सार्वजनिक रूप से सबको सम्मान देते हैं. ख़ुद की गलती स्वीकार करने में देर नहीं करते और सामने वाले को उसकी गलती बताने में भी हिचकचाते नहीं. बुरा किसी का नहीं चाहते.

8. दूसरों की भावनाओं को समझ पाते हैं और किसी को धोखा नहीं देते और दूसरों पर विश्वास करना नहीं छोड़ते.

9. दूसरों से Sharing करना इन्हें अच्छा लगता है. Open Mind होते हैं. भेदभाव से दूर रहना पसंद करते हैं.

10.  भरोसेमंद होते हैं और Relations को लेकर बहुत Sincere रहते हैं. बेहद Caring और सेंसिटिव पाए जाते हैं. 

11.  ज्यादातर Extrovert हो जाते हैं. कम व्यावहारिक होते हैं. Risk लेना जानते हैं. किसी आईडिया के बारें में ज्यादा Discuss करते हैं. नए विचारों का स्वागत करते हैं.

12.  हमेशा Solution Oriented Talk करते देखे जा सकते हैं.


प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक ऐसे लोगों को हमेशा Support देते रहना और Motivate करते रहना चाहिए. इससे इन्हें और अच्छा करने की प्रेरणा मिलती है. इनका Confidence बढ़ जाता है. ऐसे लोग दूसरों से भी अच्छा होने और अच्छा करने की उम्मीद रखते हैं. जिससे ख़ुशी और सफलता दोनों मिलना और आसान हो जाता है.


अंत में प्रोफ़ेसर कैरेल कहती हैं कि “हमें किसी के Intelligence और Talent की तारीफ करने की बजाय उसके Efforts को Praise करने की कोशिश करनी चाहिए”. इससे उस व्यक्ति में आत्म-सम्मान का विकास करने में आसानी होगी और उसकी Life में निखार होगा.