Feb 17, 2018

Super 30 Anand Kumar



हर इंजीनियरिंग स्टूडेंट का सपना होता है. IIT में एडमिशन.

स्टूडेंट्स अपने-अपने Level पर पूरी कोशिश करते हैं. Parents काफ़ी पैसे खर्च करके बच्चों को बेहतर से बेहतरीन कोचिंग भी Join करवाते हैं. कुछ कामयाब हो जाते हैं. कुछ Next Attempt का wait करते हैं.

लाखों स्टूडेंट्स के बीच कुछ ऐसे भी होते हैं जो बेहद प्रतिभाशाली होते हैं लेकिन Without Proper Guidance, Without Money और माता-पिता के अनसुलझे हालातों के कारण उन स्टूडेंट्स को सँभालने और उनके लिए कोई सोचने वाला ही नहीं होता.

2002 से पहले कितने ही ऐसे विरले स्टूडेंट्स वक़्त के साथ वो नहीं पा सके थे, जिसके वो लायक थे. लेकिन फिर आया SUPER-30. आनंद कुमार का SUPER-30.

आनंद कुमार, बॉलीवुड के Superstars से बिलकुल अलग एक ऐसा हीरो जो Real है, जिसने दर्द झेला है, महसूस किया है और जो ग़रीबी से हारा नहीं बल्कि उसी ग़रीबी के दलदल से उसने बेशकीमती हीरे तराशे.

आज आलम ये है कि बड़े-बड़े कोचिंग संस्थानों पर शायद ही कोई डाक्यूमेंट्री बनी हो या बने लेकिन आनंद कुमार पर डाक्यूमेंट्री के बाद अब फिल्म बनाने की तैयारी चल रही है. उनका रोल बॉलीवुड के सुपरस्टार ऋतिक रोशन निभा रहे हैं. शूटिंग जारी है. जल्दी ही फिल्म फ्लोर पर होगी.

देखिये ख़ुदा की रहमत “जो कभी टूट रहा था वो आज उनको जोड़ रहा है जो आगे जाकर टूट सकते थे." 

सच है – जिस पर बीतती है, सिर्फ़ वो ही जान सकता है. ये क्या किसी देश-सेवा से कम है? आनंद कुमार को हम सब की और से उनके इस बलिदानी स्वरुप पर शत-शत नमन.

आइये आनंद कुमार और SUPER – 30 के मायने समझें.

·  बिहार की SUPER – 30 कोचिंग क्लासेस : सिर्फ़ गरीब और जरूरतमंद बच्चे ही यहाँ एडमिशन ले सकते हैं.

·  SUPER – 30 में 30 का मतलब है कि सिलेक्शन प्रोसेस के द्वारा 30 बच्चे Shortlist किये जाते हैं. जिनका सारा खर्च आनंद कुमार उठाते हैं. हैरानी तब ज्यादा बढ़ जाती है, जब पूरी दुनिया को ये पता चलता है कि सब बच्चों ने IITJEE क्लीयर कर डाला है. SUPER – 30 वो मंदिर हैं जो गरीब बच्चों के सपनों को पूरा करने में उनकी मदद करता है, वो भी बिना कुछ लिए. आनंद अब इस संख्या को बढाने पर विचार कर रहे हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा गरीब प्रतिभावान बच्चे अपना भविष्य सुनहरा बना सकें.

·   आनंद कुमार सुविधाओं से वंचित परिवारों के 30 बच्चों को हर साल मुफ्त में IIT की कोचिंग देते हैं. इन बच्चों को अपने घर पर रखते हैं और उनकी माता जी इन बच्चों के लिए खाना बनाती हैं.

·    आनंद के इन रियल लाइफ Super Heros में भूमिहीन किसान का बेटा अभिषेक, खेतों में मजदूरी करने वाले का बेटा अर्जुन, सड़क किनारे अंडे बेचने वाले का बेटा अरबाज आलम और एक बेरोजगार पिता का बेटा केवलिन जैसे Legends शामिल हैं.

·    आनंद कुमार ख़ुद इतने Brillant Student और Researcher हैं जिन्होंने Math के कई Formulas बनाये. उन्हें कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में पढने का इनविटेशन आया था लेकिन पिता की मृत्यु और तंग आर्थिक हालत के चलते वो अपना ये सपना साकार नहीं कर पाए.

·   आनंद के पिता चले गए. रोटी कमाने का जिम्मा अब उनके सर था. लेकिन स्वभाव से समाज के लिए समर्पित आनंद यहाँ भी अपनी कोशिशों में लगे रहे. दिन में रामानुजम स्कूल ऑफ मैथेमैटिक्स नाम के क्लब में वे अपने प्रोफेसर की मदद से बिना कोई पैसा लिए मैथ के छात्रों को ट्रेनिंग दिलाते और शाम को अपनी मां के साथ पापड़ बेच कर घर का खर्चा निकालने की try करते.

·   2 स्टूडेंट्स से शुरू हुआ उनका रामानुजम स्कूल ऑफ मैथेमैटिक्स क्लब अब 500 स्टूडेंट्स को पढ़ाने लगा था. एक दिन एक लड़के ने आनंद कुमार से कहा कि “सर हम गरीब हैं अगर हमारे पास फीस ही नहीं है तो देश के अच्छे कॉलेजों में हम कैसे पढ़ सकते हैं? आनंद को अपना संघर्ष उस बच्चे में दिखाई दिया और 2002 में आनंद ने SUPER – 30 की स्थापना कर डाली.

·    पिछले 15 साल में अब तक SUPER – 30 के 450 में से 396 गरीब स्टूडेंट्स आज आईआईटी में हैं. आनंद ने दुनिया को आईना दिखाया है कि पैसा ही सबकुछ नहीं. आपका जुनून और आपका यकीन कहीं ज्यादा मायने रखता है.

·     SUPER – 30 आनंद कुमार जैसे द्रोणाचार्य और गरीब अर्जुन जैसे शिष्यों की लगन और कठोर परिश्रम का नतीजा है.

·  अमेरिकी Newspaper ‘न्यूयार्क टाइम्स’ में भी आनंद की बायोग्राफी प्रकाशित हो चुकी है. आज आनंद राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर Motivation देते हैं. Discovery चैनल ने आनंद कुमार पर एक डाक्यूमेंट्री भी बनाई है.

·     आनंद कुमार को कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है.

·    सरकार और कई संस्थाओं द्वारा उनको पैसों की मदद का ऑफर आता है पर वो ठुकरा देते हैं. वो सबकुछ अपने दम पर कर रहे हैं.

·   आनंद का कहना है कि “आंसुओं से नज़रें चुराकर हंसने का हुनर देखना है तो SUPER – 30 के आंगन में एक बार जरूर आइए.


·  आनंद कुमार के अनुसार सफल होने के लिए सकारात्मक सोच, कठोर परिश्रम, जबरदस्त प्रयास और धैर्य की आवश्यकता होती है.