Mar 12, 2018

शेक्सपीयर



विलियम शेक्सपीयर : ये कोई अनोखा ही राइटर रहा होगा, जिसने इतना कुछ लिखा और कहा होगा. क्या सोच होगी शेक्सपीयर की? ये सोचना ही हमें हैरानी से भर देता है.
जन्म: 1564, मृत्यु: 1616
आम जिंदगी के डायलॉग्स लिखने में इनका कौन सानी? और इतनी आसान लेखनी कि हर कोई कल्पना भी करे तो जैसे उनकी कहानियों के पात्र सामने आकर अभिनय करने लगे हों. शेक्सपीयर का जलवा शायद ही कभी ख़त्म हो. ये तो एक अमर कथा है. पढ़ते रहिए, आगे बढ़ते रहिए.
भगवान् भी कभी- कभी एक से एक शानदार अजूबे बना देता है जो इतना कर जाते हैं कि पीढियां सीख सकें.
आइये, देखें क्या कुछ है शेक्सपीयर की पोटली में हमारे लिए?
1.  महानता से बिलकुल ना डरें. कुछ लोग महान पैदा होते हैं, कुछ महानता हासिल करते हैं और कुछ लोगों में महानता समाहित होती है.

2.  दोष हमारे गृह - नक्षत्रों में नहीं हैं प्रिय ब्रूटस, बल्कि हममें है.


4.  ये दुनिया एक रंगमंच है और सभी स्त्री और पुरुष केवल अदाकार; सबके आने और जाने का समय भी तय है; और एक व्यक्ति अपने समय अंतराल में अनेक किरदार निभाता है और फ़िर अलविदा.

5.  शब्द हवा की तरह ही आसानी से बहते हैं; वफादार मित्रों को पाना बेहद मुश्किल है.

6.  वे लोग खुश हैं जो अपने ऊपर लगे कलंक को जानकर उसे हटाने में लग जाते हैं.

7.  दूसरों से मदद की उम्मीद ही हर बुराई की जड़ है.

8.  एक मिनट की देरी से आने से बेहतर है तीन घंटे पहले आ जाना.

9.  एक छोटी सी मोमबत्ती का प्रकाश कितनी दूर तक जाता है? इसी तरह इस बुरी दुनिया में एक अच्छाई कुछ समय तक ही प्रकाशित रह पाती है.

10. खाली बर्तन सबसे अधिक शोरगुल करते हैं.

11. रोना दुःख की गहराई को कम कर देता है.

12. जिस तरह तुम अपने विचारों में महान रहे हो. अपने कर्मों में भी महान बनो.

13. एक पुरानी कहावत है जो मुझ पर भी लागू होती है: “जो खेल आप खेल ही नहीं रहे हैं, उसे आप कभी हार भी नहीं सकते.”