Sep 13, 2018

शाम से आँख में नमी सी है.



 “शाम से आँख में नमी सी है, आज फिर आपकी कमी सी है”
जगजीत की मखमली आवाज़ में जब कभी आप इस ग़ज़ल को सुनते होंगे तो हो सकता है कि जिंदगी की उलझनों से परेशान हो रहा मन कह उठे : अब बहुत हो चुका. अब मैं भी जीना चाहता हूं. तू जिस हाल में रखे मौला. मुझे कबूल है. मुझे हँसना सीखा. आराम करना सीखा. मेरा बचपन याद दिला. वो पल जिसमें कुछ चाहिए ही नहीं था. जो उस पल था, बस वही मुकम्मल था. 

और जब ऐसा होता होगा तो आपकी निगाहें झुकती होंगी और आँखों से मोती बिखर के आपके हाथों में आकर आपको एक निर्मल मुस्कान ज़रूर देते होंगे. अब आप कितना हल्का महसूस कर रहें होंगे, ये कहने की ज़रूरत नहीं है. क्या ये कमाल नहीं है? आप कितने दिनों बाद ख़ुद से मिल रहें हैं कुछ इस तरह के आँख भर आई. किसी को कुछ बताना नहीं, कुछ जताना नहीं. कुछ चाहिए भी नहीं इस पल. बस आप हैं और आपका अस्तित्व. 

और ये सब आपके रोने से पूरा हुआ? मतलब ये कि रोना कतई बुरा नहीं है. 
अब तो साइंस भी धीरे-धीरे मानने लगी है कि रोने के बहुत फ़ायदे है. आइये देखें आपका रोना आपको कैसे हँसा सकता है?

1. रोने से फ्रेश हो जाता है आपका मूड
अगर आप कभी भावनात्मक रूप से थोड़ा रो लेते है तो मूड हल्का होने में देर नहीं लगती और आप शानदार तरीके से बहुत अच्छा महसूस करने लगते है.

2. सिरदर्द की छुट्टी  
जब आप कभी रोते हैं तो आपकी बॉडी से ल्यूसीन और एड्रेनोकॉर्टिकोट्रोपिक जैसे हॉर्मोन बाहर निकल जाते हैं. इससे अच्छी फ़ीलिंग आती है. स्ट्रेस कम हो जाता है और सिरदर्द गायब.

3. हानिकारक तत्वों को बाय-बाय
जब आप कभी भावुक होकर रो पड़ते हैं तो ख़ुद को कमज़ोर मत समझिए. रोने से आपकी बॉडी में कुछ टॉक्सिक केमिकल्स बनने लगते हैं. जब आंसू आते हैं तो ये ज़हरीले तत्व बड़ी आसानी से बॉडी से बाहर निकल जाते हैं. इसीलिए रोते रहिए और स्वस्थ रहिए.

4. टेंशन फ्री करता है रोना
अगर किसी वजह से आप बहुत टेंशन में है, तो आपका मन रोने का भी करता होगा. लेकिन आप ख़ुद को मजबूत दिखाने के लिए फीलिंग्स पर कंट्रोल कर लेते हैं. ऐसा मत कीजिए क्योंकि रोने से आपके नेगेटिव विचार निकल जाते हैं और उनकी जगह पॉजिटिव विचार माइंड में रोटेट करते हैं. और इसी कारण आप रोने के बाद रिलैक्स, हल्का और टेंशन फ्री फील कर पाते हैं.

5. हाई ब्लड प्रेशर से मुक्ति
स्ट्रेस के कारण कई बार आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और आप कई बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं. थोड़ा रो लेने से न केवल स्ट्रेस कम होता है, बल्कि इसके साथ-साथ ब्लड प्रेशर की समस्या से लड़ने में मदद भी मिलती है. नतीजा ये के कई बीमारियाँ आपसे आटोमेटिक ही दूर भाग जाती हैं.

सार: रोना एक फ्री दवाई है बस इसे ग़लत जगह, ग़लत तरीके से ना अप्लाई करें. ये उदास होने के लिए नहीं बल्कि आपको आपसे मिलवाने का सबसे सस्ता ईलाज है. पॉजिटिव रोना आपको हँसाने की तरफ लेकर ही जायेगा. आज नहीं तो कल. अब मुस्कुराइए.  


No comments: