Sep 18, 2018

कुछ भी फ़िक्स पैटर्न पर काम नहीं करता.






ये लाइफ है. अनूठी, अनोखी, surprising. ये कभी दिन में तारे दिखा दे या के फ़िर रात में सूरज की तरह तपा दे. इसके दोस्त बनिए. इससे लड़कर नहीं, इसके साथ कदम से कदम मिला कर चलते रहिए.

मानव जीवन बेमिसाल है. कुछ भी फ़िक्स पैटर्न पर काम नहीं करता. हर चीज़ unstable है. इच्छाओं से लेकर सुख, दुःख, सफ़लता, फेलियर ...सब शोर्ट पीरियड ड्रामा है. आज है, कल गायब. ये एक जादू जैसा है बस. इसका मज़ा लेते चलिए.

आइए, आज के टॉप 10 रियल लाइफ कोट्स का नज़ारा लें.

Quote: जब तक आपकी चाहत वाली कोई चीज़ आपको मिल नहीं जाती. उसको पाना ही आपका लक्ष्य होता है. उसके मिलते ही चाहत ख़त्म. अब लक्ष्य बदल जाता है और मरने तक आप अनगिनत लक्ष्यों का पीछा करते हैं. आपका पेट कभी नहीं भरता. एक दिन सब गायब हो जाता है.

Quote: जिंदगी कभी भी आपकी परीक्षा नहीं लेती. ये बस आपको टेस्ट करती है, आपके मज़े लेती है. ताकि आप सीरियस सिचुएशन में भी ख़ुद पर हँसना सीख जाएं. जितना जल्दी हो, ये कर लीजिए. कल किसने देखा है?

Quote: आपने जैसी किताबें पढ़ी हैं. जैसी फिल्में देखी हैं. जैसे माहौल में आप पल कर बड़े हुए हैं. जैसा सोचते हुए आपकी उम्र बढ़ी है. आप 100% वैसे ही बन जाते हैं.

Quote: किस्मत क्या है? ये आपकी इच्छाओं और आपकी रियलिटी के डिफरेंस का टोटल है. और कुछ भी नहीं.

Quote: सुख का आपकी बाहरी अमीरी या चमक-दमक से कोई लेना-देना नहीं है. इसे पाने के लिए आपको अपने भीतर अमीरी के बीज बोने होंगे. ये रेडीमेड नहीं हैं कि आप इसे किसी दुकान से पैसे देकर ख़रीद लेंगे.

Quote: आप चाहें तो भी संसार की एक भी चीज़ को बदल नहीं सकते. ये किसी और की बनाई हुई दुनिया है और उसे पक्का पता होगा कि इसे कैसे चलाना है.

Quote: मुर्गी पहले आई या अंडा? ये सवाल इतना इम्पोर्टेन्ट नहीं है. इम्पोर्टेन्ट ये है कि इन दोनों में से पहले कौन आपके काम आता है?

Quote: बोलने और करने में बहुत फ़र्क होता है. बोलना आपको सिर्फ़ मन की तसल्ली देता है, वहीँ करना आपको ख़ुशी और संतुष्टि. थ्योरी और प्रैक्टिकल में ये ही फ़र्क होता है.

Quote: आप जैसे होते हैं, ठीक वैसा ही दूसरों में देखने की इच्छा रखते हैं. चोर को चोर ही पसंद आता है. सिपाही को सिपाही.

Quote: आदमी का जितना डेवलपमेंट होना था, हो चुका है. अब प्रेम की ज्यादा ज़रूरत है. हेल्प और ह्यूमैनिटी की उससे भी कहीं ज्यादा.


No comments: