Sep 27, 2018

लाइफ इज good.






आप दुनिया को 24 घंटे ख़ुश नहीं रख सकते. ये कोई नहीं कर सकता. आप बस अपनी तरफ़ से best दे सकते हैं. अगर हम वैसा ही बने जैसे के हम हैं यानि original. बजाय इसके कि दुनिया हमें कैसा देखना चाहती है.
नतीजा: लाइफ इज good.

अपना काम, अपनी जिम्मेदारियां अच्छे से निभाइये. ये आपको सकून देगा. दूसरों को कमियां निकालते रहने दीजिये. उनके पास शायद अच्छे से करने के लिए कोई और काम हो ही ना? थोड़ा सा मुस्कुराइए.
नतीजा: लाइफ इज good.

सबके लिए अच्छा करिये. नहीं कर पा रहे तो सबके लिए अच्छा ज़रूर सोचिये. इससे आप अपने नजरिये और attitude को सही लेवल पर ला सकेंगे.
नतीजा: लाइफ इज good.

संगत का असर होता है. अपने circle में उन लोगों को शामिल कीजिये जो आपको उत्साहित करें, demoralize ना करें. उन लोगों पर trust करना सीखिए जो आपके अच्छे काम पर आपकी पीठ थपथपाएं और आपके किसी गलत काम पर आपको टोक भी दें. ऐसे लोग हमेशा आपका भला ही चाहेंगे. अगर ऐसा साथ आपको मिल सके तो.
नतीजा: लाइफ इज good.

आप सबसे उम्मीद तो करते हैं कि वो आपको समझें. सही बात है. लेकिन इससे अच्छी बात तब होगी जब आप पहले ये जानना सिख लें कि आपसे भी कोई ऐसी ही उम्मीद रख रहा होगा. क्यों ना पहले आप उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करें. इससे आपका थॉट प्रोसेस पॉजिटिव बन जायेगा और आपसे जुड़े लोग ख़ुद फ़िर आपके प्रति अच्छा सोचना शुरू कर देंगे. ये कर के देखिये.
नतीजा: लाइफ इज good.


आज इतना सा करने की try करें. आज में ही जीवन है. 21 दिन रोजाना अगर आप ऐसा कर सकें तो आप पाएंगे कि कुछ भी गलत नहीं हो रहा है बल्कि आप ही कहीं ना कहीं ख़ुद को misguide कर रहें थे.

जब आपको अच्छा महसूस होना स्टार्ट हो जाये तो बस इतना कर दीजियेगा कि इस ब्लॉग को अपने near एंड dear से शेयर कर दें. ये ही हमारे लिए आपके प्रेम का उपहार होगा.
नतीजा: हमारी लाइफ भी good.

हँसते रहिये, खिलखिलाते रहिये. सबके लिए गुनगुनाते रहिये. इससे पहले कि वक़्त कहीं और ले चले, बिछड़े हुए रिश्ते मिलाते रहिये.

आपका दिन शुभ हो.



No comments: