Oct 18, 2018

बेटा अपनी माँ से नहीं तो और किससे बात करेगा?






माँ से जुड़े कुछ अनमोल थॉट्स. आज माँ के जन्मदिन पर समर्पित.


ना अपनों से खुलता है, न ही गैरों से खुलता है
ये जन्नत का दरवाजा है, बस माँ के पैरों से खुलता है.




George Washington
मेरी माँ दुनिया की वह सबसे खूबसूरत औरत थी जिसे मैंने कभी देखा था. आज मै जो कुछ भी हूँ अपनी माँ के कारण ही हूँ. मैं अपने जीवन में मिली प्रत्येक सफलता का श्रेय अपनी माँ की दी हुई नैतिक, बौद्धिक और शारीरिक शिक्षा को देता हूँ.

Robert Browning
मातृत्व : सारा प्रेम वही से आरम्भ और वही खत्म होता है.

Abraham Lincoln
मैं जो कुछ भी हूँ या होने की आशा रखता हूँ, उसका श्रेय मेरी माँ को जाता है.

Rudyard Kipling
भगवान सभी जगह नहीं हो सकते इसलिए उसने माँ बनायी.

Antonio Villaraigosa
मुझे एक ऐसी माँ के साथ बड़े होने का मौका मिला जिसने मुझे खुद में यकीन करना सिखाया.

Alicia Keys
यकीनन मेरी माँ मेरी चट्टान है.

Theodore Hesburgh
एक पिता अपने बच्चों के लिए जो सबसे प्रमुख चीज कर सकता है वो है उनकी माँ से प्रेम करना.

Abraham Lincoln
जिसके पास एक ईश्वरतुल्य माँ है, ऐसा कोई भी व्यक्ति गरीब नहीं हो सकता.

Billy Sunday
कला की दुनिया में ऐसा कुछ भी नहीं है जैसा की उन लोरियों में होता था जो माएं गाती थीं.

Donald E. Westlake
बेटा अपनी माँ से नहीं तो और किससे बात करेगा?

Sophocles
बच्चे माँ के जीने का सहारा होते हैं.

H. D. Balzac
एक माँ का ह्रदय वह अगाध खाई है जिसके तल में आप क्षमा को हमेशा पायेंगे.

George Eliot
ज़िन्दगी उठने और माँ के चेहरे से प्यार करने के साथ शुरू हुई.

Ralph Waldo Emerson
इंसान वो है जो उसे उसकी माँ ने बनाया है.

Princess Diana
मां की बाहों की तुलना में और अधिक आरामदायक कुछ नहीं है.

Henry Ward Beecher
हम माता-पिता के प्रेम के विषय में तब तक कभी नहीं जान पाते जब तक स्वयं ही माँ-बाप नहीं बन जाते.

T. Dewitt Talmage
माँ वह बैंक था जिसमे हमने अपने दुखों और चिंताओं को जमा किया था.

Jennifer Garner
मेरी माँ एक कठिन परिश्रमी हैं. वह अपने सिर को नीचे रखती हैं और वह खुश रहने का एक रास्ता ढूंढ लेती हैं. वह हमेशा कहती हैं, ‘खुशी आपकी ही ज़िम्मेदारी है.

Abraham Lincoln
मुझे अपनी माँ की दुआएँ याद हैं और उन्होंने सदा ही मेरा पीछा किया है. वे मेरी सारी जिंदगी मेरे साथ रही हैं.

Unknown
एक पुरुष का काम दिन निकलने से दिन छिपने तक है, लेकिन एक माँ का काम कभी पूरा नहीं होता.


No comments: