Oct 8, 2018

दुनिया उनके बगैर ना थी और ना ही होगी.





एक स्त्री अपने सभी रिश्तों की कितने अच्छे से केयर करती है. ये सभी जानते हैं कि दुनिया उनके बगैर ना थी और ना ही होगी. 

हम सभी को उनकी वजह से ही इस दुनिया को देखने का अवसर मिला है. लेकिन हमारी पारंपरिक सोच ने उनके योगदान को हमेशा बहुत छोटे स्वरुप में जाना है.

अब सोच बदलने का समय है. उनके योगदान को सम्मान देने का समय है. ये आपको ही करना है. अपने-अपने तरीके से करना है.

कल से नवरात्रे की शुरुआत हो रही है. आने वाले 9 दिन हम सभी देवी मां की पूजा करेंगे और अपनी अधूरी इच्छाओं को पूरा करने की रिक्वेस्ट उनसे करेंगे.

देवी की पूजा हम एक और अच्छे तरीके से, प्रैक्टिकल तरीके से हर रोज भी कर सकते हैं. फिर ये केवल 9 दिन का सफ़र नहीं रहेगा. ये लाइफ़ टाइम की यात्रा होगी. अनूठी. अनोखी और पवित्रता लिए हुए.

अगर हम सचमुच ईश्वर की आराधना सच्चे मन से करना चाहते हैं तो क्यों ना नवरात्रे के पहले दिन से ये संकल्प लें कि भ्रूण हत्या नहीं करेंगे और हर स्त्री, हर लड़की को सम्मान की नज़र से देखेंगे. फ़िर देखिए कि देवी मां आपकी झोली कितने आशीर्वादों और दुआओं से भर देंगी.

आइए कुछ बेशकीमती बातें जाने और उन्हें समझ कर अपना कर्ज़ उतारने की कोशिश करें. ये नवरात्रों पर देवी की पूजा का सबसे सही तरीका बन सकता है.

“स्त्री का सम्मान करना हम सब का परम कर्तव्य है”

“कोई भी देश यश के शिखर पर तब तक नहीं पहुंच सकता जब तक उसकी महिलाएं कंधे से कंधा मिला कर ना चलें.”

“स्त्रियाँ प्यार करने के लिए बनी हैं, समझने के लिए नहीं.”

“हम हमेशा देखते हैं जब पुरुष स्त्री से प्यार करता है तो वो अपनी ज़िन्दगी का बहुत छोटा हिस्सा देता है. लेकिन जब स्त्री प्यार करती है वो अपना सबकुछ दे देती है.”

“स्त्रियाँ पुरुषों से अधिक समझदार होती हैं क्योंकि वो जानती कम हैं और समझती ज्यादा हैं.”

“स्त्रियाँ वो नहीं सुनना चाहती जो आप सोचते हैं. वो सुनना चाहती हैं, जो वो सोचती हैं.”

“सुयोग्य स्त्री परिवार की शोभा तथा घर की लक्ष्मी है.”

“स्त्रियों की मानहानि साक्षात् लक्ष्मी और सरस्वती की मानहानि है.”

“स्त्रियाँ समाज की वास्तविक आर्किटेक्ट होती हैं.”

“जीवन की कला को अपने हाथों से साकार कर स्त्री ने ही सभ्यता और संस्कृति का रूप निखारा है.”

“स्त्री का अस्तित्व ही सुन्दर जीवन का आधार है.”

“अच्छा व्यवहार करने वाली स्त्रियाँ इतिहास बनाती हैं.”

“हर सफल आदमी के पीछे एक स्त्री है.”

“स्त्री की उन्नति पर ही एक देश की उन्नति निर्भर है.”

“पुरुष अपनी किस्मत नही बनाता बल्कि स्त्री उसकी किस्मत तय करती है.”

“जब आप एक पुरुष को शिक्षित करते हैं; आप एक आदमी को शिक्षित करते हैं. लेकिन जब आप एक स्त्री को शिक्षित करते हैं तो आप पीढ़ियों को शिक्षित करते हैं.”

“एक पुरुष चाहे कितनी भी तरक्की क्यों न कर ले मगर बिना स्त्री के वह अधूरा है.”

“एक स्त्री ही ऐसी होती है जो बड़े से बड़े दुखों के पहाड़ को आसानी से ढो लेती है.”

“स्त्री समाज के निर्माण का आधार है.”

“स्त्री का जीवन संतोष की परिभाषा है.”

“एक स्त्री कुछ भी करने की ताकत रखती है. लेकिन कभी भी वह अपने इच्छा के विरुद्ध प्रेम नही कर सकती है.”

“जहां स्त्री का सम्मान नही होता, उस समाज और पशु में कोई अंतर नही होता है.”

“जहां स्त्री को शक्ति मानकर पूजा जाता है, वही सच्चे मातृत्व के सुख आते है.”

“एक स्त्री ही कभी माँ, कभी पत्नी, कभी बहन, कभी बेटी और कभी एक सच्ची दोस्त बनकर पुरुषों की सेवा करती है.”

“पुरुष अपने फर्ज़ से मुहं मोड़ सकते है लेकिन एक स्त्री अपने फर्ज़ को कभी अधूरा नही छोड़ती.”

“एक स्त्री ही है जो अपने पूरा जीवन सिर्फ़ दूसरों के लिए जीती है.”

“केवल एक स्त्री ही घर को स्वर्ग बना सकती है.”

“स्त्री का जीवन मतलब त्याग.”

“यह भी कटु सत्य है कि हर कोई एक स्त्री के रूप में अपनी बेटियों से प्यार करता है, लेकिन दूसरों की बेटियों की इज्जत करने वाले लोग बहुत कम मिलते हैं.”

“एक स्त्री का अश्रु कठोर से कठोर पुरुष के हृदय को पिघला सकता है.”

“अगर आप किसी स्त्री का प्यार पा लेते है तो समझिये आपने जीवन जीने का आधार पा लिया है.”

“आप तभी सम्मान पाते है जब आप स्त्री का सम्मान करते है.”

“स्त्री शांति की प्रतिमा होती है. उनका अपमान करना आपके जंगलीपन को दर्शाता है.”

“यदि स्त्री सुरक्षित है, तभी हमारा भविष्य भी सुरक्षित है.”

“स्त्री केवल एक इंसान ही नही बल्कि इस प्रकृति को आगे ले जाने वाली मेकर भी है.”

No comments: