Nov 28, 2018

2020 में आप बिलकुल एक नए आदमी होंगे. 2018 से बिलकुल अलग.





क्या नहीं बदल सकता, तुम चाहो तो सही.
क्यों नहीं बदल सकता, तुम चाहो तो सही.
कैसे नहीं बदल सकता, तुम चाहो तो सही.
कब नहीं बदल सकता, तुम चाहो तो सही.
कहाँ नहीं बदल सकता, तुम चाहो तो सही.

अगर आप चाहें तो सब बदल सकता है. थोड़ा अपना नज़रिया बदलने के देर है. फिर ना कोई अँधेरा है, ना कोई धुंधलापन और और ना ही कुछ ऐसा, जिसे समझा ना जा सके.

छोटे-छोटे efforts से आप ख़ुद में बदलाव महसूस कर सकते हैं. कई मीलों का सफ़र नहीं तय करना. बस तय करना है कि आज अपनी पुरानी दुखी कर रही किसी एक आदत को बदलने की शुरुआत करनी है.

2019 बस आने ही वाला है. आगे आने वाले 12 महीने होंगे. हर महीने सिर्फ एक बात पर फोकस रखना है और इस तरह आप सालभर में 12 नए अनुभवों से गुजरेंगे. 

2020 में आप बिलकुल एक नए आदमी होंगे. 2018 से बिलकुल अलग. 

एक शानदार मनुष्य, जिस पर सब गर्व कर सकेंगे. आप ख़ुद, आपका परिवार, आपके दोस्त, आपके वर्कप्लेस पर काम करने वाले साथी और आपको यहाँ भेजने वाला भी यानि हम सबका ऊपर वाला भी. और जिदंगी से किसी को क्या चाहिए होता है?


करना क्या है?
बेहद सिंपल है. बस आपको month wise नीचे लिखे शब्दों को रिपीट करते रहना है और कुछ भी नहीं करना. कुछ समय बाद आप देखेंगे कि ये मैजिक काम करने लगा है. आपको जब भी कोई परेशानी आए तो उस महीने के अपने वैल्यू स्टेटमेंट को ख़ुद को याद दिलाते रहें. और कुछ नहीं करना. आसान है लेकिन आपको consistent रहना होगा. फ़िर देखिए चमत्कार. और चमत्कार को नमस्कार है.

आइए शुरू करते हैं.

महीना
आपको सिर्फ़ ख़ुद को ये याद दिलाते रहना है कि
जनवरी
हम अपना past कभी नहीं बदल सकते. मैं आज में जीता हूँ.

फरवरी
मेरी अच्छी सोच मुझे अच्छा बनाएगी और बुरी सोच बुरा.

मार्च
ईश्वर जो करता है, अच्छे के लिए ही करता है.

अप्रैल
हर एक आदमी की लाइफ अलग है. सबकी अपनी कहानी है. मुझे किसी से तुलना नहीं करनी चाहिए.

मई
मैं किसी rumour पर ध्यान नहीं दूंगा. मैं wait करना पसंद करूँगा. सच ज्यादा देर छुप ही नहीं सकता और झूठ ज्यादा देर टिक नहीं सकता.

जून
जब तक मैं हार नहीं मानता, तब तक मुझे कोई नहीं हरा सकता.

जुलाई
kindness बिलकुल फ्री है. मुझे हमेशा ये करते रहना चाहिए. अपने साथ भी और दूसरों के साथ भी. ये मुझे इंसान बनाने में मदद करता है.

अगस्त
ख़ुशी मार्केट में नहीं मिलती. ये मेरे अंदर है. मुझे इसे बढ़ाते रहना चाहिए.

सितम्बर
मुझे लोगों के बीच जज नहीं बनना. मुझे सबसे प्यार करते हुए जिंदगी को खुबसूरत बनाना है. मुझे दूरियाँ मिटानी सीखनी हैं, बढ़ानी नहीं.

अक्तूबर
समय के साथ सबकुछ अच्छा हो जाता है. ना सुख हमेशा रहेगा और ना ही दुःख. ये दिन और रात की तरह आते-जाते हैं.

नवम्बर
किसी और से उम्मीद करने से पहले मैं ख़ुद इस लायक बनूँगा कि दूसरों की उम्मीदों पर खरा उतर सकूँ. सबके फायदे में ही मेरा फायदा है. कोई चीज़ अकेले मेरे लिए कभी अच्छी कैसे हो सकती है?

दिसम्बर
मैं हर दिन 2 ऐसे काम जरुर करूँगा जिससे किसी और के चेहरे पर स्माइल आए.




No comments: