Feb 17, 2018

Super 30 Anand Kumar



हर इंजीनियरिंग स्टूडेंट का सपना होता है. IIT में एडमिशन.

स्टूडेंट्स अपने-अपने Level पर पूरी कोशिश करते हैं. Parents काफ़ी पैसे खर्च करके बच्चों को बेहतर से बेहतरीन कोचिंग भी Join करवाते हैं. कुछ कामयाब हो जाते हैं. कुछ Next Attempt का wait करते हैं.

लाखों स्टूडेंट्स के बीच कुछ ऐसे भी होते हैं जो बेहद प्रतिभाशाली होते हैं लेकिन Without Proper Guidance, Without Money और माता-पिता के अनसुलझे हालातों के कारण उन स्टूडेंट्स को सँभालने और उनके लिए कोई सोचने वाला ही नहीं होता.

2002 से पहले कितने ही ऐसे विरले स्टूडेंट्स वक़्त के साथ वो नहीं पा सके थे, जिसके वो लायक थे. लेकिन फिर आया SUPER-30. आनंद कुमार का SUPER-30.

आनंद कुमार, बॉलीवुड के Superstars से बिलकुल अलग एक ऐसा हीरो जो Real है, जिसने दर्द झेला है, महसूस किया है और जो ग़रीबी से हारा नहीं बल्कि उसी ग़रीबी के दलदल से उसने बेशकीमती हीरे तराशे.

आज आलम ये है कि बड़े-बड़े कोचिंग संस्थानों पर शायद ही कोई डाक्यूमेंट्री बनी हो या बने लेकिन आनंद कुमार पर डाक्यूमेंट्री के बाद अब फिल्म बनाने की तैयारी चल रही है. उनका रोल बॉलीवुड के सुपरस्टार ऋतिक रोशन निभा रहे हैं. शूटिंग जारी है. जल्दी ही फिल्म फ्लोर पर होगी.

देखिये ख़ुदा की रहमत “जो कभी टूट रहा था वो आज उनको जोड़ रहा है जो आगे जाकर टूट सकते थे." 

सच है – जिस पर बीतती है, सिर्फ़ वो ही जान सकता है. ये क्या किसी देश-सेवा से कम है? आनंद कुमार को हम सब की और से उनके इस बलिदानी स्वरुप पर शत-शत नमन.

आइये आनंद कुमार और SUPER – 30 के मायने समझें.

·  बिहार की SUPER – 30 कोचिंग क्लासेस : सिर्फ़ गरीब और जरूरतमंद बच्चे ही यहाँ एडमिशन ले सकते हैं.

·  SUPER – 30 में 30 का मतलब है कि सिलेक्शन प्रोसेस के द्वारा 30 बच्चे Shortlist किये जाते हैं. जिनका सारा खर्च आनंद कुमार उठाते हैं. हैरानी तब ज्यादा बढ़ जाती है, जब पूरी दुनिया को ये पता चलता है कि सब बच्चों ने IITJEE क्लीयर कर डाला है. SUPER – 30 वो मंदिर हैं जो गरीब बच्चों के सपनों को पूरा करने में उनकी मदद करता है, वो भी बिना कुछ लिए. आनंद अब इस संख्या को बढाने पर विचार कर रहे हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा गरीब प्रतिभावान बच्चे अपना भविष्य सुनहरा बना सकें.

·   आनंद कुमार सुविधाओं से वंचित परिवारों के 30 बच्चों को हर साल मुफ्त में IIT की कोचिंग देते हैं. इन बच्चों को अपने घर पर रखते हैं और उनकी माता जी इन बच्चों के लिए खाना बनाती हैं.

·    आनंद के इन रियल लाइफ Super Heros में भूमिहीन किसान का बेटा अभिषेक, खेतों में मजदूरी करने वाले का बेटा अर्जुन, सड़क किनारे अंडे बेचने वाले का बेटा अरबाज आलम और एक बेरोजगार पिता का बेटा केवलिन जैसे Legends शामिल हैं.

·    आनंद कुमार ख़ुद इतने Brillant Student और Researcher हैं जिन्होंने Math के कई Formulas बनाये. उन्हें कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में पढने का इनविटेशन आया था लेकिन पिता की मृत्यु और तंग आर्थिक हालत के चलते वो अपना ये सपना साकार नहीं कर पाए.

·   आनंद के पिता चले गए. रोटी कमाने का जिम्मा अब उनके सर था. लेकिन स्वभाव से समाज के लिए समर्पित आनंद यहाँ भी अपनी कोशिशों में लगे रहे. दिन में रामानुजम स्कूल ऑफ मैथेमैटिक्स नाम के क्लब में वे अपने प्रोफेसर की मदद से बिना कोई पैसा लिए मैथ के छात्रों को ट्रेनिंग दिलाते और शाम को अपनी मां के साथ पापड़ बेच कर घर का खर्चा निकालने की try करते.

·   2 स्टूडेंट्स से शुरू हुआ उनका रामानुजम स्कूल ऑफ मैथेमैटिक्स क्लब अब 500 स्टूडेंट्स को पढ़ाने लगा था. एक दिन एक लड़के ने आनंद कुमार से कहा कि “सर हम गरीब हैं अगर हमारे पास फीस ही नहीं है तो देश के अच्छे कॉलेजों में हम कैसे पढ़ सकते हैं? आनंद को अपना संघर्ष उस बच्चे में दिखाई दिया और 2002 में आनंद ने SUPER – 30 की स्थापना कर डाली.

·    पिछले 15 साल में अब तक SUPER – 30 के 450 में से 396 गरीब स्टूडेंट्स आज आईआईटी में हैं. आनंद ने दुनिया को आईना दिखाया है कि पैसा ही सबकुछ नहीं. आपका जुनून और आपका यकीन कहीं ज्यादा मायने रखता है.

·     SUPER – 30 आनंद कुमार जैसे द्रोणाचार्य और गरीब अर्जुन जैसे शिष्यों की लगन और कठोर परिश्रम का नतीजा है.

·  अमेरिकी Newspaper ‘न्यूयार्क टाइम्स’ में भी आनंद की बायोग्राफी प्रकाशित हो चुकी है. आज आनंद राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर Motivation देते हैं. Discovery चैनल ने आनंद कुमार पर एक डाक्यूमेंट्री भी बनाई है.

·     आनंद कुमार को कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है.

·    सरकार और कई संस्थाओं द्वारा उनको पैसों की मदद का ऑफर आता है पर वो ठुकरा देते हैं. वो सबकुछ अपने दम पर कर रहे हैं.

·   आनंद का कहना है कि “आंसुओं से नज़रें चुराकर हंसने का हुनर देखना है तो SUPER – 30 के आंगन में एक बार जरूर आइए.


·  आनंद कुमार के अनुसार सफल होने के लिए सकारात्मक सोच, कठोर परिश्रम, जबरदस्त प्रयास और धैर्य की आवश्यकता होती है.




Feb 15, 2018

लर्निंग जोन





Life है तो Nature है, Science है, Situations हैं. 

Situations हैं तो Thoughts हैं. 

Thoughts के According ही बन जाता है Mindset.

Mindset क्या है?

हमारी अपने और दूसरों के बारे में राय या Belief (सेल्फ-थ्योरी) को Mindset’ कहा जाता है.

Mindset के विचार ने Education Sector के अलावा दूसरे सभी Sectors में भी लोगों के सोचने और चीज़ों को देखने का नज़रिया बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.


जैसा Mindset हमने बना लिया. उसी के अनुसार ही कोई एक Situation हमारे लिए Problem है यानि Negativity है और किसी और के लिए वो ही Situation शायद Solution यानि Positivity है. 

इसे सरल भाषा में मनोविज्ञान कहा जाता है क्योंकि ये मन और दिमाग की Parellel Processing से जुड़ा मामला है.

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की प्रोफ़ेसर कैरेल ड्वेक की लिखी एक किताब है. नाम है “Mindset”.

इस किताब में वे ‘Growing Mindset‘ का विचार पुट करती हैं. 

उनकी Research कहती है कि हम अपने मस्तिष्क के सीखने और समस्याओं का समाधान करने की क्षमता बढ़ा सकते हैं.” 

उनके मुताबिक 
"इस संसार का कोई भी आदमी सिर्फ़ "माइंडसेट" के आधार पर जीता है और उसके अनुसार ही व्यवहार दिखाता है."

Mindset 2 type के हो सकते हैं.
1. Fixed Mindset  

2. Growing mindset 

उनके अनुसार, Fixed Mindset रखने वाले लोग मानते हैं कि Intelligence और Creativity स्थायी हैं और इन्हें बदला नहीं जा सकता.

Fixed Mindset रखने वाले लोग क्या करते हैं? 

प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक

1. ऐसे लोग असफलता से बचने की कोशिश करते हैं.

2. ज़िम्मेदारी लेने के नाम से घबरा उठते हैं.

3. Excuses देकर तितर-बितर होने का प्रयास करने लगते हैं.

4. कमियाँ गिनाकर किसी भी काम को सही तरीके से पूरा करने में कोई दिलचस्पी नहीं ले पाते और हमेशा खुद को सही साबित करने की जुगत में लगे रहते हैं.

5. ये भीड़ में बड़े Confident दिखाई पड़ते हैं क्योंकि वहां इन पर ज़िम्मेदारी का कोई बोझ नहीं होता लेकिन जैसे ही इनको कोई ज़िम्मेदारी लेने को कहा जाये, ये Argument करने पर उतारू हो जाते हैं.

6. पब्लिक में इनकी इमेज एक Negative Critic की बन कर रह जाती है क्योंकि अमूमन ये पीठ पीछे लोगों के बारें में ज्यादा Discuss करते देखे जाते हैं. सीखना बंद कर देते हैं.

7. ये आस-पास के माहौल को पूरी तरह Negative बना देते हैं और हमेशा दूसरों की गलतियां निकालने में सबसे ज्यादा व्यस्त मिलेंगे. दूसरों की आलोचना कर देते हैं लेकिन ख़ुद की आलोचना सहन करना इनके लिए बेहद मुश्किल होता है.

8. अपने Mindset के चलते ये लोग यकीन के काबिल नहीं बन पाते. Thankless जीवन गुज़ार देते हैं. ये आपकी Position को महत्व देते हैं.

9. दूसरों की खिंचाई करके ख़ुश महसूस करते हैं. ख़ुद पर कम Work-out करते हैं. नए विचारों के लिए कोई Space नहीं रख पाते.

10.  समय के साथ अपनी Relationships बदलते रहते हैं. वफ़ादार नहीं रह सकते. मदद की बातें करते मिलेंगे लेकिन Actual में मददगार हो नहीं पाते. Image-mgt. में माहिर होते हैं.

11.  ज्यादातर Introvert हो जाते हैं. व्यावहारिक बन कर Safe रहना पसंद करते हैं. Comfort Zone में रहना इन्हें बेहद पसंद होता है.

12.  हमेशा Problem Oriented Talk करते देखे जा सकते हैं


प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक ऐसे लोगों की काउंसलिंग करना बेहद ज़रूरी होता है अन्यथा वो उस स्थान को बर्बाद कर देते हैं जहां वो रहते हैं. सही दिशा में कोशिश की जाये तो ही इन्हें बदला जा सकता है. कोई अप्रत्याशित घटना इनके स्वभाव में सही बदलाव लाने में सहायक सिद्ध हो सकती है.  



Growing Mindset  रखने वाले लोग क्या करते हैं?

प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक

1. वे लोग अपने और अपने आस-पास के लोगों के लिए ख़ुशी और सफ़लता का पैमाना Decide करते हैं.

2. Team Work में काम करना बेहद पसंद करते हैं. सीखना ज़ारी रखते हैं. 

3. अपने आस-पास के हर व्यक्ति की खूबियों को आगे लाने में मदद करते हैं. ये आपकी Position को नहीं बल्कि आपको महत्व देते हैं.

4. कई Choices में से काम के सबसे अच्छे तरीके Select करने की कोशिश करते हैं. Positive Criticism का स्वागत करते हैं.

5. ज़िम्मेदारी को स्वीकार करके आगे बढ़ते है. हार की ज़िम्मेवारी खुद पर लेते हैं. जीत का श्रेय अपने साथियों को देते हैं. मददगार होते हैं.

6. किसी भी Challenge और Defeat को भी आगे बढ़ने का एक अवसर मान कर चलते हैं.

7. सार्वजनिक रूप से सबको सम्मान देते हैं. ख़ुद की गलती स्वीकार करने में देर नहीं करते और सामने वाले को उसकी गलती बताने में भी हिचकचाते नहीं. बुरा किसी का नहीं चाहते.

8. दूसरों की भावनाओं को समझ पाते हैं और किसी को धोखा नहीं देते और दूसरों पर विश्वास करना नहीं छोड़ते.

9. दूसरों से Sharing करना इन्हें अच्छा लगता है. Open Mind होते हैं. भेदभाव से दूर रहना पसंद करते हैं.

10.  भरोसेमंद होते हैं और Relations को लेकर बहुत Sincere रहते हैं. बेहद Caring और सेंसिटिव पाए जाते हैं. 

11.  ज्यादातर Extrovert हो जाते हैं. कम व्यावहारिक होते हैं. Risk लेना जानते हैं. किसी आईडिया के बारें में ज्यादा Discuss करते हैं. नए विचारों का स्वागत करते हैं.

12.  हमेशा Solution Oriented Talk करते देखे जा सकते हैं.


प्रोफ़ेसर कैरेल के मुताबिक ऐसे लोगों को हमेशा Support देते रहना और Motivate करते रहना चाहिए. इससे इन्हें और अच्छा करने की प्रेरणा मिलती है. इनका Confidence बढ़ जाता है. ऐसे लोग दूसरों से भी अच्छा होने और अच्छा करने की उम्मीद रखते हैं. जिससे ख़ुशी और सफलता दोनों मिलना और आसान हो जाता है.


अंत में प्रोफ़ेसर कैरेल कहती हैं कि “हमें किसी के Intelligence और Talent की तारीफ करने की बजाय उसके Efforts को Praise करने की कोशिश करनी चाहिए”. इससे उस व्यक्ति में आत्म-सम्मान का विकास करने में आसानी होगी और उसकी Life में निखार होगा.


Jobs in India 2018



1.इंडिया स्किल ने हाल ही में अपने संयुक्त सर्वेक्षण की एक रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018 नौकरी के लिहाज़ से 2017 की तुलना में काफ़ी अच्छा साल साबित हो सकता है.

2.संयुक्त सर्वेक्षण में व्हीबॉक्स, पीपुल्स स्ट्रोंग, एआईसीटीई, सीआईआई, पीयरसन, यू.एन.डी.पी. और ए.आई.यू शामिल हैं.

3.सर्वेक्षण के मुताबिक 2018 में 2017 की तुलना में Jobs की संख्या 10-15% ज्यादा रहेगी.

4.भारत में 2018 में Companies लगभग 5 लाख 10 हज़ार Jobs provide करा सकती हैं.

5.रिपोर्ट के अनुमान के मुताबिक दिल्ली, गुजरात और आंध्रप्रदेश में सबसे अधिक Jobs उपलब्ध होंगी.

6.IT हब के रूप में बंगलौर इस साल भी सबका Favourite रह सकता है.

7.स्किल्स के हिसाब से दिल्ली के युवाओं को सबसे योग्य माना जा रहा है.

8.बेरोजगारी से इस साल कुछ मुक्ति मिलने की संभावना जताई गयी है. रोजगार की दर 2017 के 40.44% से बढ़कर 2018 में 45.60% तक पहुँच सकती है.

9.एस्पायरिंग माइंडस के एक अन्य सर्वे के अनुसार निम्नलिखित स्किल्स की Demands कुछ इस तरह रह सकती है:-

      SKILLS                           
A.   English Comprehension 100%
B.   Deductive Reasoning 62.3%
C.  Inductive Reasoning 45.75%
D.  Agreeableness 34.30%
E.   IGS 33.74%
F.   Extraversion 28.21%
G.  Emotional Stability 22.88%
H.  Quantitative Ability 15.14%
I.    Software & IT 31%
J.   Sales 12%
K.    Customer Service 09%
L.   Marketing 07%
M.  Core Engineering 07%
N.  General Management 07%
O.  Analytics and Consulting 04%
P.   Accounting 03%
Q.  Operations Management 01%
R.  Others 19%

Key Term Description
A.English Comprehension: The ability to understand the written text and communicate effectively through written documents.

B. Deductive Reasoning: The ability to make inferences and decide actions based on data containing multiple textual instructions and simple symbolic rules.

C. Inductive Reasoning: The ability to learn and to derive objective rules based on specific instances of a rule’s application.

D.Agreeableness: This refers to social conformity, cooperativeness, friendliness, and helpfulness. It is a ”big five” personality trait.

E. Information Gathering & Synthesis (IGS): The ability to collate, comprehend, and evaluate information from multiple sources to make inferences and draw objective conclusions, and determine the appropriate course of action.

F. Extraversion: This is defined as the disposition toward the outer world sociability, talkativeness, and assertiveness.

G. Emotional Stability: This is defined as the ability to stay even-tempered and face stressful situations without getting upset.

H. Quantitative Ability: It is defined as the ability to understand basic number system, i.e., fractions, decimals, negative, positive, odd, even numbers, etc.

I. Software and IT:  Software and IT comprises of job roles such as Support Technician, Software Developer, Networking Engineer and Systems Analyst. In addition to having requisite domain knowledge, they are also required to possess a certain level of reasoning and quantitative ability.

J. Sales: Sales is a crucial job function for any business as it results in the generation of revenue for the organization. The key skills needed for someone to be a successful salesperson are logical ability, soft skills such as agreeableness and ability to influence others by rational discussions.

K. Customer Service: Customer service is the support and advice provided by an organization to its customers in order to assist them and ease their buying experience and post sales queries.

L. Marketing: Marketing is a function that designs and implements the promotion strategies for a business, including activities like market research and advertising. This requires skills that are less likely to be matched incompetence by automation techniques. Some of these skills are creativity and a highly rational thought process.

M. Core Engineering: Core engineering comprises of various engineering domains apart from software and IT. These include but may not be limited to electrical engineering, civil engineering, and mechanical engineering.

N. General Management:  General management comprises of roles that require leadership and management of an enterprise as a whole, such as Business Managers, General Managers.

O. Analytics and Consulting:  Analytics and consulting is the practice of assisting organizations in improving their operations and processes through the analysis of existing issues and developing improvement plans.

P. Accounting: Accounting comprises of recording, summarizing, analyzing and reporting financial data. An accountant is required to be highly logical and innovative, as the job requires them to constantly learn the new developments in policies and processes.

Q. Operations Management:  Operations management comprises of tasks conducted in order to design and control business processes efficiently so as to ensure smooth production and/or delivery of services or products of an organization.