Oct 13, 2018

कितना अद्भुत है उनके लिए जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा Need हो.




हम बचपन से ही पढ़ते आ रहे हैं कि आवश्यकता आविष्कार की जननी है.

डिजिटल क्रांति से अगर Cash Crisis से मुक्ति मिल जाए तो कितना अद्भुत है उनके लिए जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा Need हो और उन्हें इसका ज्ञान भी ना हो?

टेक्नोलॉजी से बदलाव का नया दौर अब सिर्फ़ चैटिंग, शेयरिंग और सोशल मीडिया Updates तक सीमित नहीं है. ख़ासकर Village लेवल पर जिस जागरूकता की सबसे ज्यादा ज़रूरत है, उसे पाने के कोशिशें भी लगातार चल रहीं हैं.

आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत का एक ऐसा गांव भी है जो Cash Crunch से कभी दुखी नहीं होता. यहां कैश की कभी कमी नहीं पड़ती.

ये है भारत का पहला डिजिटल विलेज अकोदरा.
·      अकोदरा गांव, जिला: सबरकांत, हिम्मतनगर से 10 किलोमीटर दूर, स्टेट का नाम: गुजरात

·    सुर्ख़ियों में क्यों? इसे देश का पहला डिजि‍टल विलेज होने का दर्ज़ा प्राप्त.

·      Population: लगभग 1,252

·      घरों की संख्या: लगभग 255

·     ख़ास बात: सभी ग्रामीण लोग द्वारा अपने कामों के लिए कैशलेस सिस्‍टम का Use करना.

·    डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, Smsing, Net-banking यानि डिजिटल तरीके से कैश का ट्रांजक्‍शन

·   डिजिटल विलेज प्रोजेक्‍ट के तहत 2015 में ICICI बैंक ने Adopt किया और ग्रामीणों को ट्रेनिंग देकर कैशलेस Method को बढ़ावा दिया गया.

·      यहां के हर घर का बैंक में अकाउंट.

·     Mobile बैंकिंग के लिए हिंदी, अंग्रेजी और गुजराती भाषाओं का प्रयोग

·   रोचक बात: लोकल लेवल पर दूध और अनाज की Sale – Purchase  में भी कैशलैस Transaction

·   हर स्कूल में कंप्‍यूटर और स्‍मार्ट बोर्ड की मदद से बच्चों की पढाई को प्राथमिकता



ग्रामीण ख़ुश हैं? वो देख पा रहे हैं और वो जी पा रहे हैं, जो सोचा ना था.

सार: 
अगर जीवन आसान होता है तो नई टेक्नोलॉजी को अपनाने में क्या बुरा है? हाँ, अपनी जमीन से जुड़े होने का एहसास ना भूलें.






नयी सोच ने 1 साल में ही बदल डाली गांव की तस्वीर








जहां एक तरफ़ सोशल मीडिया के Negative असर पर लगातार बातें हो रही हैं वही इससे जुड़ी Positive और नई सोच से आप कुछ अच्छा भी कर सकते हैं, अगर करना चाहें तो.

ऐसा ही कुछ सामने आया मध्यप्रदेश के बैतूल की तहसील भैंसदेही के गांव बासनेर खुर्द में.

गांव में लाइट की भारी क़िल्लत. सारे कामों से लेकर बच्चों के पढ़ने तक में दिक्कत क्योंकि लाइट का ना होना या बहुत कम होना हमेशा परेशानी से भरा हुआ अनुभव होता था.

गांव के यूथ लोकेश ने अपने दोस्तों के साथ 1 Whatsapp ग्रुप बनाया. नाम दिया “मेरा गांव, मेरे अपने”.

अब इस ग्रुप की बदौलत गांव की गलियां कुछ दिनों में ही LED बल्ब से रोशन हो सकेंगी. लोकेश और उनकी टीम ने 2017 में ग्रुप को Start किया. 

गांव के लोगों की काउंसलिंग की और उन्हें इस ग्रुप से जोड़ा. गांव के डेवलपमेंट के लिए लोगों से अपनी Planning शेयर की. धीरे-धीरे लोगों का विश्वास बना. सब Help करने के लिए Agree होने लगे.

फिर क्या हुआ?

सबसे पहले गांव की बंद पड़ चुकी Street लाइट को दुरुस्त किया गया. आपसी सहयोग से पैसे इकठ्ठा कर LED बल्ब ख़रीदने और उनको सही जगह लगाने पर काम शुरू हुआ.

ख़ुशी की बात ये है कि इस नवरात्रि तक गांव में लाइट ही लाइट होगी और सालों से अँधेरे का कालापन झेल रहा ये गांव अब जल्द ही जगमगाने लगेगा.

मेहनत की इस रौशनी से ग्रुप के लोगों का जोश देखते ही बनता है और अब ये टीम और साथ जुड़े लोग गांव और उसके आस-पास Tree प्लांटेशन, Water हार्वेस्टिंग, इलाज के लिए Hospital और गरीब बच्चों की Education में मदद के लिए भी Effort करने की दिशा में कदम बढ़ा रहें हैं.

सार:
अगर दिल में कुछ अच्छा करने का ज़ज्बा हो और साथ भी बेहतरीन मिल जाए तो बुराई में से भी अच्छाई पकड़ी जा सकती है.

साभार: नईदुनिया

Oct 11, 2018

आपका दर्द आपकी पहचान बन सकता है?




मन में हो जुनून और कुछ कर दिखाने की लगन तो दुनिया आपको सुनती है.
और 
जब शरीर से आप लाचार हों और तब कुछ ऐसा कर दें कि ख़ुदा भी हैरान रह जाए तो दुनिया आपको सलाम करती है.

ऐसे ही कुछ महान लोगों से मिलते हैं जो एक तरह से inspiration के real source हैं और जिनकी लाइफ़ में कुछ भी artificial नहीं हुआ. वो अपनी बेबसी से लड़े. अपने हालातों से जूझे और अंत में वो कर गए जो एक स्वस्थ आदमी भी शायद ही तरीके से कर पाता हो.


Magic Personality 1: श्रीकांत बोला
ü जन्म से ही नेत्रहीन
ü अपने दम पर 60 करोड़ की कंपनी खड़ी की जो दिव्यांग लोगों को जॉब्स provide करती है
ü सीखिए? - कि लाइफ़ को surprise कैसे करें?



Magic Personality 2: इरा सिंघल
ü शारीरिक रूप से अक्षम
ü सिविल सर्विस एग्‍जाम 2015 में अपनी कामयाबी का डंका बजाया
ü सीखिए? - कमाल का ज़ज्बा और कमाल की लगन



Magic Personality 3: अरुणिमा सिन्‍हा
ü दुनिया की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट पर विजय प्राप्त करने वाली दुनिया की पहली विकलांग महिला
ü 2011 में पर्स छीनने की कोशिश कर रहे बदमाशों ने विरोध करने पर अरुणिमा को चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया. इस वजह से उन्‍हें अपने पैर गंवाने पड़ गए थे.
ü 2013 में एवरेस्‍ट को हरा डाला
ü सीखिए? – जीना किसे कहते हैं?



Magic Personality 4: शेखर नाइक
ü जिंदगी के असली नायक
ü इंडियन ब्‍लाइंड क्रिकेट टीम के कप्‍तान रहें हैं.
ü सफलतम कप्तानों में से एक
ü सीखिए? – बिना आंखों के भी लाइफ़ को खुबसूरत कैसे बनाए?



Magic Personality 5: सुधा चंद्रन
ü most popular क्‍लासिकल डांसर
ü 16 साल की उम्र में एक हादसे में उन्‍हें अपने पैर गंवाने पड़े
ü artificial पैरों की मदद से वो मुकाम हासिल किया जो हर किसी का सपना होता है.
ü सीखिए? – जो पाना है, वो पाना है. फिर चाहे हालात कैसे भी क्यों ना हों?



Magic Personality 6: साई प्रसाद विश्‍वनाथन
ü शारीरिक रूप से अक्षम
ü देश के पहले स्‍काईडाइवर
ü 14 हजार फीट की ऊंचाई पर स्‍काईडाइविंग
ü उनका कारनामा लिम्‍का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज
ü सीखिए? – आपकी हिम्मत आपकी हेल्थ से बहुत ऊपर की चीज़ है?



Magic Personality 7: मलाथी कृष्‍णामूर्ति होल्‍ला
ü बंगलुरू की अंतरराष्‍ट्रीय पैराएथलीट
ü तेज बुखार आने की वजह से शरीर पैरालाइज का शिकार हो गया  
ü डेली लगातार 2 साल तक इलेक्ट्रिक शॉक देकर ट्रीटमेंट चला
ü अब तक 300 मेडल उनकी झोली में
ü अर्जुन अवॉर्ड और पद्म श्री से सम्‍मानित
ü सीखिए? - आपका दर्द आपकी पहचान बन सकता है?



 Magic Personality 8: रवींद्र जैन
ü इंडियन म्यूजिक इंडस्ट्री का जाना-माना नाम
ü जन्म से आंखों की रौशनी नहीं थी परन्तु इस कमजोरी को ही ताकत बना डाला
ü कई सुपरहिट गानों को संगीत और अपनी आवाज़ दी
ü सीखिए? – आपके अंदर कितनी ताकत और प्रतिभा हो सकती है?



Magic Personality 9: राजेंद्र सिंह
ü Mens हेवीवेट चैंपियन
ü ओलंपिक में मेडल विजेता
ü जन्म के 8 महीने बाद ही हो गए थे पोलियो के शिकार
ü सीखिए? – सपने उस वक़्त भी पूरे किये जा सकते हैं जब आप सोच भी नहीं सकते?



Magic Personality 10: एच. रामाकृष्‍णन
ü मात्र 2 साल की उम्र में दोनों पैरों में पोलियो हो गया
ü स्‍कूल से लेकर नौकरी तक बार-बार रिजेक्‍ट
ü परेशानियों के बावजूद भी 40 साल बतौर पत्रकार काम किया
ü music में रुचि थी तो इसकी शिक्षा ली और कई stage performance दीं
ü विकलांग लोगों की मदद के लिए एक चैरिटेबल ट्रस्‍ट चलाते हैं
ü सीखिए? – आपका ज़ज्बा ही आपकी कमाई है?

Oct 8, 2018

दुनिया उनके बगैर ना थी और ना ही होगी.





एक स्त्री अपने सभी रिश्तों की कितने अच्छे से केयर करती है. ये सभी जानते हैं कि दुनिया उनके बगैर ना थी और ना ही होगी. 

हम सभी को उनकी वजह से ही इस दुनिया को देखने का अवसर मिला है. लेकिन हमारी पारंपरिक सोच ने उनके योगदान को हमेशा बहुत छोटे स्वरुप में जाना है.

अब सोच बदलने का समय है. उनके योगदान को सम्मान देने का समय है. ये आपको ही करना है. अपने-अपने तरीके से करना है.

कल से नवरात्रे की शुरुआत हो रही है. आने वाले 9 दिन हम सभी देवी मां की पूजा करेंगे और अपनी अधूरी इच्छाओं को पूरा करने की रिक्वेस्ट उनसे करेंगे.

देवी की पूजा हम एक और अच्छे तरीके से, प्रैक्टिकल तरीके से हर रोज भी कर सकते हैं. फिर ये केवल 9 दिन का सफ़र नहीं रहेगा. ये लाइफ़ टाइम की यात्रा होगी. अनूठी. अनोखी और पवित्रता लिए हुए.

अगर हम सचमुच ईश्वर की आराधना सच्चे मन से करना चाहते हैं तो क्यों ना नवरात्रे के पहले दिन से ये संकल्प लें कि भ्रूण हत्या नहीं करेंगे और हर स्त्री, हर लड़की को सम्मान की नज़र से देखेंगे. फ़िर देखिए कि देवी मां आपकी झोली कितने आशीर्वादों और दुआओं से भर देंगी.

आइए कुछ बेशकीमती बातें जाने और उन्हें समझ कर अपना कर्ज़ उतारने की कोशिश करें. ये नवरात्रों पर देवी की पूजा का सबसे सही तरीका बन सकता है.

“स्त्री का सम्मान करना हम सब का परम कर्तव्य है”

“कोई भी देश यश के शिखर पर तब तक नहीं पहुंच सकता जब तक उसकी महिलाएं कंधे से कंधा मिला कर ना चलें.”

“स्त्रियाँ प्यार करने के लिए बनी हैं, समझने के लिए नहीं.”

“हम हमेशा देखते हैं जब पुरुष स्त्री से प्यार करता है तो वो अपनी ज़िन्दगी का बहुत छोटा हिस्सा देता है. लेकिन जब स्त्री प्यार करती है वो अपना सबकुछ दे देती है.”

“स्त्रियाँ पुरुषों से अधिक समझदार होती हैं क्योंकि वो जानती कम हैं और समझती ज्यादा हैं.”

“स्त्रियाँ वो नहीं सुनना चाहती जो आप सोचते हैं. वो सुनना चाहती हैं, जो वो सोचती हैं.”

“सुयोग्य स्त्री परिवार की शोभा तथा घर की लक्ष्मी है.”

“स्त्रियों की मानहानि साक्षात् लक्ष्मी और सरस्वती की मानहानि है.”

“स्त्रियाँ समाज की वास्तविक आर्किटेक्ट होती हैं.”

“जीवन की कला को अपने हाथों से साकार कर स्त्री ने ही सभ्यता और संस्कृति का रूप निखारा है.”

“स्त्री का अस्तित्व ही सुन्दर जीवन का आधार है.”

“अच्छा व्यवहार करने वाली स्त्रियाँ इतिहास बनाती हैं.”

“हर सफल आदमी के पीछे एक स्त्री है.”

“स्त्री की उन्नति पर ही एक देश की उन्नति निर्भर है.”

“पुरुष अपनी किस्मत नही बनाता बल्कि स्त्री उसकी किस्मत तय करती है.”

“जब आप एक पुरुष को शिक्षित करते हैं; आप एक आदमी को शिक्षित करते हैं. लेकिन जब आप एक स्त्री को शिक्षित करते हैं तो आप पीढ़ियों को शिक्षित करते हैं.”

“एक पुरुष चाहे कितनी भी तरक्की क्यों न कर ले मगर बिना स्त्री के वह अधूरा है.”

“एक स्त्री ही ऐसी होती है जो बड़े से बड़े दुखों के पहाड़ को आसानी से ढो लेती है.”

“स्त्री समाज के निर्माण का आधार है.”

“स्त्री का जीवन संतोष की परिभाषा है.”

“एक स्त्री कुछ भी करने की ताकत रखती है. लेकिन कभी भी वह अपने इच्छा के विरुद्ध प्रेम नही कर सकती है.”

“जहां स्त्री का सम्मान नही होता, उस समाज और पशु में कोई अंतर नही होता है.”

“जहां स्त्री को शक्ति मानकर पूजा जाता है, वही सच्चे मातृत्व के सुख आते है.”

“एक स्त्री ही कभी माँ, कभी पत्नी, कभी बहन, कभी बेटी और कभी एक सच्ची दोस्त बनकर पुरुषों की सेवा करती है.”

“पुरुष अपने फर्ज़ से मुहं मोड़ सकते है लेकिन एक स्त्री अपने फर्ज़ को कभी अधूरा नही छोड़ती.”

“एक स्त्री ही है जो अपने पूरा जीवन सिर्फ़ दूसरों के लिए जीती है.”

“केवल एक स्त्री ही घर को स्वर्ग बना सकती है.”

“स्त्री का जीवन मतलब त्याग.”

“यह भी कटु सत्य है कि हर कोई एक स्त्री के रूप में अपनी बेटियों से प्यार करता है, लेकिन दूसरों की बेटियों की इज्जत करने वाले लोग बहुत कम मिलते हैं.”

“एक स्त्री का अश्रु कठोर से कठोर पुरुष के हृदय को पिघला सकता है.”

“अगर आप किसी स्त्री का प्यार पा लेते है तो समझिये आपने जीवन जीने का आधार पा लिया है.”

“आप तभी सम्मान पाते है जब आप स्त्री का सम्मान करते है.”

“स्त्री शांति की प्रतिमा होती है. उनका अपमान करना आपके जंगलीपन को दर्शाता है.”

“यदि स्त्री सुरक्षित है, तभी हमारा भविष्य भी सुरक्षित है.”

“स्त्री केवल एक इंसान ही नही बल्कि इस प्रकृति को आगे ले जाने वाली मेकर भी है.”