Nov 8, 2018

पुरानी आदतें नए रास्ते कभी नहीं खोलतीं.






उड़ान एक सफ़र है. रोज उड़ो पर शाम को नीचे उतर आओ. क्योंकि आपकी Success पर ताली बजाने वाले और गले लगाने वाले सब नीचे ही तो रहते हैं.

ये कुछ कोट्स जो आपको लाइफ़ में समय-समय पर सहारा देते रहेंगे.


तारीफ निकालने वालों से ज्यादा आपकी गलतियां निकालने वालों को Serious लो. वो ही आपको आगे लेकर जायेंगे.


जिंदगी में Problems आएं तो उदास मत होना. याद रखना कि Toughest रोल केवल Best एक्टर को ही दिए जाते हैं.


Confidence वो नहीं है कि लोग आपको पसंद करेंगे ही. Confidence वो है कि जब वो पसंद ना भी करें, तब भी आप ठीक रहें.


इंसान जन्म के 2 साल बाद ही बोलने लगता है. लेकिन “क्या बोलना हैं” ये सीखने में पूरा जीवन लग जाता है.


जो आसानी से मिल जाता है वो हमेशा तक नहीं रहता और जो हमेशा तक रहता है वो आसानी से नहीं मिलता.


जीतने वाला ही नहीं बल्कि कहां पर हारना है? ये जानने वाला भी महान होता है.


जो बदलता है वो ही आगे बढ़ता है.


हर आदमी की अपनी ताकत और अपनी कमजोरी होती है. जैसे मछली जंगल में दौड़ नहीं सकती और शेर पानी में राजा बन कर तैर नहीं सकता.


जब एक ही चुटकुले पर आप दोबारा नहीं हंसते तो एक ही दुख पर दोबारा परेशान भी नहीं होना बनता.


रियल सक्सेसफुल वह है जो अपने दुश्मनों पर नहीं बल्कि अपनी इच्छाओं पर जीत हासिल कर लेता है.


यदि आप सूर्य की तरह चमकना चाहते हो तो पहले सूर्य की तरह तपें.


आपको उन सभी का शुक्रगुज़ार होना चाहिए जो आपका काम करने से मना कर देते हैं क्योंकि फिर आप ख़ुद उस काम को करना सीख लेते हैं.


जब Future धुंधला नज़र आ रहा हो तो केवल अपने Present पर फोकस करें.


पहले दिल टूटता है फिर इतिहास बनता है.


कोई भी नयी Starting सपने देखने से ही होती है.


गिरना अच्छा है, औकात पता चलती है. थामने वाले किसके और कितने हाथ हैं, यह बात पता चलती है.


स्वभाव सूरज की तरह रखना चाहिए, जो एक महल और एक गरीब की झोपड़ी दोनों को Equal Light देता है.


कभी हार मत मानो. कोका कोला कम्पनी पहले साल में केवल 27 बोतल ही Sale कर पाई थी.


इंसान सफल तब होता है, जब वो दूसरों से ख़ुद को Compare करना बंद कर देता है.


अपना पूरा जीवन एक कैदी की तरह गुजारने से अच्छा है आजादी के लिए लड़ते हुए मर जाओ.


सोते हुए को जगाया जा सकता है, पर कोई सोने का नाटक करके पड़ा रहता हो तो उसे कैसे जगाया जाएगा?


इंसान सही मायनों में तब सफल होता है, जब वो ये जान लेता है कि हर इंसान अपनी जगह सही होता है.


पुरानी आदतें नए रास्ते कभी नहीं खोलतीं.


आज का दर्द आपके कल की ताक़त होगी.


गलती सिर्फ़ वो है जिससे आपने कुछ नहीं सीखा.


जब हम खुद को समझ लेते हैं, तब और कोई हमारे बारे में क्या सोचता है? इससे कोई फर्क नहीं पड़ता.


हर 1 की सुनो और हर 1 से सीखो क्योंकि हर कोई सब कुछ नहीं जानता लेकिन हर 1 कुछ न कुछ जरूर जानता है.


Nov 6, 2018

हैप्पी दिवाली. जगमगाते रहिए.





दिवाली खुशियों के जगमगाने की, अपने प्रिय राजा के वापिस आ जाने की, अच्छाई की बुराई पर जीत के लिए मुस्कुराने की, रोशनी के दीप जलाने की और अपनी संस्कृति, अपना धर्म निभाने की अनूठी, अनोखी और अद्भुत संवेदनाओं से भरी गाथा है.

ये एक पर्व ही नहीं, एक पूरी चरित्र कथा है जो हमें कितने ही शानदार पलों, नायकों, खलनायकों, समय की गति और मानवीय पहलुओं से रूबरू कराती है.

यह प्रकाश का त्यौहार है. पूरे विश्व के लिए एक बेमिसाल  मार्गदर्शक है दिवाली.

और इससे जुड़े प्रजातंत्र के अनमोल नायक श्रीराम. श्रीराम यानी धर्म - संस्कृति, नैतिकता - राष्ट्रीयता और सुझबुझ –वीरता के 6 चक्रों का नाम - श्रीराम.

एक मनुष्य से श्रेष्ठतम मनुष्य बनने का साक्षात उदाहरण श्रीराम. आप नर से नारायण कैसे बनें - यह उनके जीवन की सीख है. श्रीराम ने ही आसुरी शक्तियों का नाश करके अंतत धर्म की रक्षा की थी.

श्रीराम क्यों हैं मार्गदर्शक? कौन से गुण उन्हें पूजनीय बना देते हैं.

माता-पिता के आदेश को सबसे ऊपर रखना.


सभी से हंसते-मुस्कुराते मिलने की कला.


दूसरे लोगों को यथा-संभव सम्मान देना.


रिश्तों को सहेज कर रखने की कला.


मानव कल्याण की दूरगामी सोच.


आपस में भाईचारे को बनाए रखने का गुण.


नैतिकता, ईमानदारी और सही न्याय करने का गुण.


दूसरे लोगों के विचारों के प्रति आदर का भाव.


लोगों के नामों को याद रखना और उन्हें उनके नाम से आदर-पूर्वक पुकारना.


सबकी बातों को ध्यान और संयम से सुनना.


लोगों के प्रति सच्ची निष्ठा रखना.


वफ़ादारी और दोस्ती का सम्मान करना.


अपने विचार मनवाने के लिए तर्क और विवाद का सहारा लेने से परहेज करना.


सामने वाले की नज़र से भी चीज़ों को देखने का प्रयास करना.


अपनी गलती को जल्दी से जल्दी स्वीकार कर लेना.


आदर्शों व सिद्धांत का पालन करने में हर कठिनाई को सहन करने के लिए हमेशा तैयार रहना.



सच तो ये ही है कि श्रीराम के गुण और आदर्श कभी खत्म न होने वाला धन हैं और आज के दौर में इन गुणों की ज़रूरत पहले के समय से कहीं ज्यादा बढ़ गयी है. 


सोचिएगा ज़रूर.

अपने मन के अंदर भी दीये जलाइए. सबके लिए अच्छा सोचिए. अच्छा करिए.

हैप्पी दिवाली. जगमगाते रहिए.