Jan 8, 2019

आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है.





भारत के टॉप क्लास योग गुरु बेल्लूर कृष्णमचारी सुंदरराज आयंगर यानि बी. के. एस. आयंगर.

जन्म : 14 दिसम्बर 1918
मृत्यु :  20 अगस्त 2014

आयंगर योग के संस्थापक और योग को पूरे वर्ल्ड में अहम स्थान दिलाने वाली शानदार पर्सनालिटी.

भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण तथा पद्म विभूषण से सम्मानित.

2004 में ‘टाइम’ मैगज़ीन में दुनिया के सबसे प्रभावशाली 100 लोगों की सूची में नाम शामिल.

आधुनिक ऋषि के रूप में विख्यात हुए.

यूरोप में योग का प्रसार करने में सबसे अग्रणी.


उनके कुछ विचार ये रहे आपके सामने.

जब मैं प्रैक्टिस करता हूं, तब मैं एक दार्शनिक होता हूं. जब मैं सिखाता हूं, तब एक वैज्ञानिक और जब मैं कर के दिखाता हूं तो मैं एक कलाकार हो जाता हूं.


जब आप सांस लेते हैं, तब आप भगवान से पॉवर ले रहे होते हैं. जब आप सांस छोड़ते हैं तो ये उस सेवा को दर्शाता है जो आप इस दुनिया को दे रहे हैं.


योग वह प्रकाश है जो एक बार जला दिया जाए तो कभी कम नहीं होता. जितना अच्छा आप अभ्यास करेंगे, लौ उतनी ही उज्जवल होती रहेगी.


शरीर धनुष है, आसन है तीर और आत्मा है आपका लक्ष्य.


योग हमें उन चीजों को ठीक करना सिखाता है जिसे सहा नहीं जा सकता और उन चीजों को सहना सिखाता है जिन्हें ठीक नहीं किया जा सकता.


श्वासें मन की शासक होती हैं.


आत्मविश्वास, स्पष्टता और करुणा एक टीचर के बेहद आवश्यक गुण हैं.


बस इसलिए कोशिश करना मत छोड़िये क्योंकि परफेक्शन आप से बहुत दूर है. कोशिश करते रहिए. परफेक्शन पास आता रहेगा.


अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखने पर ध्यान दीजिए. ये रीढ़ की हड्डी का काम है कि वो माइंड को अलर्ट रखे. आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है.



अपने चेतना की भावना को भीतर की ओर आकर्षित कर हम मन के नियंत्रण, स्थिरता और शांति को अनुभव कर पाने में सक्षम हैं.



हेल्थ: शरीर, मन और आत्मा के पूर्ण एलाइनमेंट की स्थिति है. और जीवन का संगीत भी ये ही है.


यदि आप अपने पाँव के अंगूठे को ही नहीं जानते तो ईश्वर को कैसे जान पायेंगे और महसूस कर पाएंगे?


ये आपके शरीर द्वारा ही है कि आप जान पाते हैं कि आप दिव्यता की चिंगारी हैं.


जीवन का मतलब है जीना. समस्याएं हमेशा वहां होंगी ही. जब समस्याएं सर उठाएं तो उन्हें योग के द्वारा गिरा दो.


हीरे की कठोरता उसकी उपयोगिता का हिस्सा है लेकिन उसकी असली कीमत उस प्रकाश में है जो उससे हो कर चमकता है.


No comments: