Feb 8, 2019

किसी ने कुछ नहीं कहा





एक –

वो अपाहिज नहीं था
एक बड़ी कंपनी का मालिक था
हज़ारों लोगों को नौकरी देने वाला
खरबपति और रुतबेदार
लेकिन उड़ नहीं सकता था अकेला
और
वो कबूतर टर्र-टर्र करते हुए
आकाश का चक्कर लगा रहा था
वो किसी कंपनी का मालिक नहीं था
खाली हाथ
लेकिन उड़ सकता था बिना किसी सहारे के



दो –
उनके बीच बड़ी गहरी दोस्ती थी
कुछ दिनों बाद उनकी शादी हो गई
कुछ सालों बाद दोनों एक जगह पर मिले
चाय की चुस्कियों के साथ
एक ने कहा
मैंने ये किया वो किया
ये वो ये वो
दूसरे ने जेब से
सालों पुरानी तस्वीर निकाल कर सामने रख दी
पहला चुप हो गया
दोनों गले मिलकर खूब रोए
किसी ने कुछ नहीं कहा
पास से एक कबूतर गुजरा
और आकाश में कहीं ओझल हो गया



09 February 2019
7.55 AM
Image Source: Google












No comments: