Apr 29, 2019

शायद यहीं कुत्ते बाज़ी मार गए हैं. कुत्ते कहीं के.





इन दिनों कितने ही इंसान,
लोगों को कम,
कुत्तों को ज्यादा लाइक करते हैं.

शायद उनका प्यार या उनकी वफ़ादारी,
लोगों से कहीं ज्यादा ऊँचे लेवल की होती होगी.

वरना आस-पास इतने इंसानों के होते हुए भी
कोई किसी कुत्ते से प्यार करे,
ये कैसे मुमकिन है?

कुछ तो जरुर ऐसा है
जो आपसे ज्यादा
उन्हें कुत्तों पर भरोसा होने लगा है.

कुत्तों से लव-अफेयर गारंटीड सफ़ल है.
जब तक कुत्ता जिंदा है,
शायद ही वो आपको कभी धोखा दे.

भगवान् हमसे कितना प्रेम करते हैं,
ये कोई % में नहीं बता सकता
लेकिन
कुत्ता 100% प्रेम है.

आप सुबह अपने काम पर जाने से पहले
उससे कैसा भी बर्ताव करें,
पर जब आप घर लौटते हैं तो
जैसा
वेलकम वो आपका करता है
वैसा तो पूरी दुनिया में कोई पति, पत्नी या बच्चे
शायद ही कर पाते हों?
क्या आपने ये कभी महसूस किया है?

ये सारा का सारा प्योर लव का मामला है
और प्योर होने के लिए आपको खुशनुमा बनना होगा.

कुत्ता ख़ुद से ख़ुश है
और ख़ुश इसीलिए
क्योंकि गिविंग प्रोडक्ट है.
और इसीलिए ही आपको ढेर सारा
प्यार कर पाता है,
बिना कोई प्लानिंग किए, बिना कोई ब्रेक लिए.

हैरान मत होइए.
आप देखते ही होंगे
कि कितने ही लोग
अब अपने परिवार, दोस्तों या दूसरे संबंधो की बजाय
अपने कुत्ते से ज्यादा प्यार करने लगे हैं.
उसे ज्यादा वक़्त देते हैं.

वो झिकझिक भी नहीं करता,
ज्यादा उम्मीदें भी नहीं रखता,
आपकी ईगो भी हर्ट नहीं करता,
आपको नीचा भी नहीं दिखाता,
आपके लिए उसकी जान भी हाज़िर है
और पूरी 100% वफ़ादारी भी.
उससे कोई प्यार क्यों नहीं करेगा?



सवाल ये नहीं है
कि क्या कुत्ते इंसानों से बेहतर हैं?

सवाल ये है कि क्या
इंसान कुत्तों से कुछ सीख कर
ख़ुद को दूसरों के लिए और बेहतर बना सकता है या नहीं?

ये ही असली सवाल है.



चलते-चलते हास्य रस:

क्या जमाना आ गया है. बताओ, अब इंसानों को भी किसी और से कुछ सीखना पड़ रहा है? हमनें तो सुना था कि वो सबसे चतुर जीव है, पर वो तो दुखदायी निकला. प्रेम का अभाव ही सभी परेशान करने वाली चीज़ों का कारण है और शायद यहीं कुत्ते बाज़ी मार गए हैं. कुत्ते कहीं के. हा हा.

08.13 AM
29 अप्रैल 2019
इमेज सोर्स: गूगल


No comments: