May 10, 2019

चित्रकार ने ब्रश दे दिया. पेंटिंग जिंदा हो उठी.






माइकल एंजलो. फेमस आर्टिस्ट.
उन दिनों यूरोप में उनका डंका था.
उनकी पॉपुलैरिटी से एक चित्रकार को बड़ी एलर्जी थी.


वो सोचता कि लोग एंजलो को इतना लाइक करते हैं
और मेरी प्रशंसा कोई क्यों नहीं करता?


हालांकि वो एंजलो से कभी मिला भी नहीं था.
फ़िर उसने संकल्प लिया कि
वो ऐसा चित्र बनाएगा 
कि 
लोग एंजलो को भूल जायेंगे.


चित्रकार ने एक स्त्री की पेंटिंग बनानी स्टार्ट की.
काम कम्पलीट किया और 
“पेंटिंग की सुंदरता में कोई कमी तो नहीं”
ये चेक करने के लिए उसे देखने लगा.
चित्रकार को उसमें कोई कमी समझ नहीं आई.


संयोग से माइकल एंजलो उसी रास्ते से गुजर रहे थे.
उन्होंने पेंटिंग को देखा. 
बेहद सुंदर लेकिन उसकी कमी पकड़ ली.
चित्रकार से कहा - अद्भुत काम किया तुमने. 
बस एक छोटी सी कमी लग रही है,
अगर तुम कहो तो ठीक कर लें.
चित्रकार को लगा कि कोई कला-प्रेमी है,
देख कर रुक गया होगा और 
अपना ओपिनियन दे रहा है.


उसने कहा- हाँ, कमी तो है, 
पर मैं देख नहीं पा रहा.

एंजलो बोले- क्या तुम मुझे अपना पेंटिंग ब्रश दोगे? लेट् मी ट्राई.
चित्रकार ने ब्रश दे दिया.
एंजलो ने पेंटिंग में बनी दोनों आँखों में 
काली बिंदिया बना दी. पेंटिंग जिंदा हो उठी.



चित्रकार ने देखा और बेहद ख़ुश. 
वो नाच पड़ा. ये तो कमाल हो गया.
अब उसकी ही तारीफें होंगी, ये सोचकर.
उसने एंजलो से कहा - आप धन्य हैं. 
आपने मेरी पेंटिंग में 4 चाँद लगा दिए.


एंजलो बोले- भाई, मैं माइकल एंजलो हूँ
और
छोटी-मोटी पेंटिंग बना ही लेता हूँ.


चित्रकार की आँखे खुली की खुली रह गयी.
उसने कहा - मुझे माफ़ कीजियेगा.
आपको हराने के लिए ही 
मैंने ये पेंटिंग बनाई थी

लेकिन

आपकी आर्टिस्टिक सेंस 
और 
सज्जनता देखकर मैं दंग हूँ 
और शर्मिंदा भी.


एंजलो ने उसे गले से लगाया 
और हसंते हुए वहां से चले गए.




इमेज सोर्स-गूगल




No comments: