Jul 8, 2019

फ़िर भी आदमी कंफ्यूज है कि क्या चुने और क्या ड्राप कर दे?






किसी भी टाइम जोन की तुलना में
आज का जीवन सबसे बेहतरीन, ख़ुशनुमा 
और एक दूसरे के लिए मददगार साबित हो सकता है.

क्या आप ऐसा नहीं सोचते?
आज से 50 – 500 – 5000 - 50,000 साल पहले जाइए.
जितना अपग्रेड आपने आज किया है, 
क्या पहले इतने अवसर मौजूद थे?

जितनी फैसिलिटी और चॉइस आज आपके पास हैं, क्या पहले के सभी लोगों के पास थी?

लाइफ़ को जीने के जितने आप्शन आज हैं, 
क्या कभी इतने पहले नज़र आते थे?

जितने खुलेपन से आज आप अपनी बात रख पाते हैं, क्या पहले कभी ऐसा माहौल रहा होगा?

ये आज का सच है.


आज जितने अवसर मानव जाति के लिए ओपन हुए हैं,
वो अगर सही डायरेक्शन को कैच कर सकें तो
अपनी इस दुनिया को शानदार से 
एक असाधारण रहने की जगह में 
तब्दील कर सकते हैं.

कितनी ही अच्छी चीज़ों को चूज करके 
कोई भी किसी प्रॉब्लम को एसेट में बदल सकता है.


हर मीठे के साथ कुछ चटपटा भी होता है
और ये अब दिखने लगा है.

जो अब तलक सिर्फ़ अपना-अपना देख रहें हैं,
कुछ समय बाद या तो वो अलग-थलग पड़ जायेंगे 
या
उन्हें दूसरे लोगों के साथ टीम-वर्क में काम करते हुए ख़ुद को तराशना होगा
क्योंकि
अब इतने आप्शन निकल आयें हैं 
कि
अकेला आदमी कंफ्यूज है कि 
क्या चुने और क्या ड्राप कर दे?
मल्टीटास्किंग ने सभी को 
अकेला और बिजी कर दिया है.


लोग थोड़ा ये पहचानने में चूक रहे हैं कि
पहले कौन से काम को पूरा करना चाहिए 
और किसको पेंडिंग रखना चाहिए?
और चूँकि इस कशमकश में भागदौड़ 
ज्यादा हो चली तो
सबकुछ होने के बाद भी अधिकतर लोग टेंशन में हैं
और 
आप उन्हें कहते सुन भी सकते हैं कि
काम बहुत है और टाइम नहीं है.


खैर,
काम ढेर सारे हैं
और हर काम कोई एक अकेला अब नहीं कर सकेगा.
कुछ ना कुछ पीछे छूटता ही रहने वाला है

तो
ये समय है अपनी प्रायोरिटी सेट करने का,
उनको स्पष्ट लिखने का
और अपने इम्पोर्टेन्ट कामों को चूज करके निपटा देने का
और साथ वाले लोगों को सपोर्ट देते हुए 
और उनसे सपोर्ट लेते हुए चलते रहने का.


और आज के दिनों में भी अगर कुछ चीज़ें हमारे खिलाफ़ काम कर रहीं हैं
तो कहीं ना कहीं हमें उन्हें रिपेयर करने की ज़रूरत है.
और ये अपने एंड से ही पॉसिबल हो सकता है.

आप भी एक कोशिश करके देखिएगा.
क्या पता, ये काम कर ही जाए
वरना लाइफ़ जैसी कल चल रही थी,
कल भी चलेगी ही.
नुकसान भी क्या है?  


इमेज सोर्स: गूगल









No comments: