Aug 21, 2019

कैसे एक छोटा सा आईडिया, बदल सकता है आपकी लाइफ़?





हर चीज़ एक आईडिया ही तो है.
कोई भी एक आईडिया लगाता है और
जीवन आपके उस आईडिया को, कहानी में 
बदल देता है.

कहानियाँ, शानदार माइंड चेंजिंग मोटिवेटर हैं,
जो आपको एक सफ़र से दूसरे सफ़र की 
ओर लेकर घुमाती रहती हैं.
ऐसी ही एक कहानी से आज मिलते हैं.


2 दोस्त, एक रेगिस्तान के रास्ते से गुजर रहे थे.
किसी बात पर एक पहले दोस्त को हल्का गुस्सा 
आ गया  और उसने अपने दोस्त के गाल पर 
एक थप्पड़ मार दिया.

जिस दोस्त को ये गिफ्ट मिला,
उसके दिल पर चोट लगी.
मगर, वो चुप रहा
और उसने गुमसुम होते हुए रेत पर लिखा कि 
"आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मुझे थप्पड़ मारा."

दोनों दोस्त कई देर तक रेगिस्तान में चलते रहे.
अंतत रेगिस्तान पार हुआ और वो उस जगह 
पहुंच गएजहाँ उन्हें एक नदी मिली.

दोनों थके हुए थे और नहा का अपनी थकान 
दूर करना चाहते थे.
दोनों जोश के साथ गहरे पानी में उतर गए.
लेकिन भाग्यवश वो दोस्त, जिसे रेगिस्तान में 
थप्पड़ पड़ा था, वो डूबने लगा.
वो जोर से चिल्लाया और 
उसके दोस्त ने उसे बचा लिया.

दोनों सकुशल बाहर निकल आए.
पास पड़े एक पत्थर के पास बैठ गए.
अब उसी दोस्त ने, जिसे थप्पड़ पड़ा था,
उसने एक छोटे पत्थर की मदद से उस बड़े 
पत्थर पर लिखा कि 
"आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मेरी जान बचाई."

थप्पड़ मारने वाले दोस्त से रहा नहीं गया 
और  उसने पूछा कि 
"जब मैंने तुम्हें थप्पड़ मारा और चोट दी, 
तब तुमने उसे रेत पर लिखा 
और
जब मैंने तुम्हारी जान बचाई, 
तो तुमने इस बड़े पत्थर पर लिखा.”

ऐसा क्यों?

दूसरे दोस्त ने जवाब दिया कि
समय के फ़ेर के चलते, 
जब कोई अपना, हमें दर्द दे या ठेस पहुचाए,
तो हमें इसे रेत में लिख देना चाहिए,
ताकि माफ़ कर देने वाली हवाएं, उसे मिटा सकें.
और
जब कोई अपना, हमारे लिए कुछ अच्छा दे.
तो हमें उसे पत्थर में उकेरना चाहिए,  
ताकि कोई भी हवा, उस अच्छाई को मिटा ना सके.”

उसके बाद वो कई देर तक एक दूसरे से 
गले मिलकर वहीँ बैठे रहे.

वो रेत, पत्थर, हवा और पानी भी 
अब मुस्कुरा रहे थे.


सार:
सार कुछ भी नहीं है.
बस इतना है कि इस लाइफ़ में 
"सबसे ज्यादा क्या ज़रूरी है",
ये आईडिया ही ख़ुशी की असली चाबी होगी.

आपकी पहल. जीवन सरल.



इमेज एंड स्टोरी सोर्स: गूगल

No comments: