Aug 5, 2019

ये एक चीज़ ही आपको यूनिक बना देती है.





दिलेरी और टीम वर्क बड़ा कीमती करियर है.
आपका विज़न और मिशन सिर्फ़ अपनी ग्रोथ के लिए है या 
ये सबके कॉमन डेवलपमेंट से गहराई से जुड़ा है.
अगर आप सिर्फ़ अपनी ग्रोथ को लेकर क्यूरियस हैं तो वो तो पूरी दुनिया में खरबों है. 
इसमें कोई नयी बात कहाँ?  


लेकिन अगर किस्मत से आप सबकी भलाई में ही अपने लिए खुशियाँ तराश रहे हैं तो फ़िर
ये एक चीज़ ही आपको यूनिक बना देती है.


फ़िर चाहे आप किसी घरेलू समस्या को निपटा रहे हों,
अपनी काम या बिज़नेस की किसी समस्या का
या देश-हित में किसी समस्या का निपटारा चाहते हों.


तो सबसे पहले ये मायने रखता है कि
आपने अपनी सोच को कैसे और किस लेवल तक
ले जाने की योजना बनाई है.


और ये एक दिन की प्रैक्टिस से नहीं आता.
ये ख़ूब पैसे और प्रॉपर्टी होने या बड़ी 
क्वालिफिकेशन होने भर से भी नहीं आ सकता.
ये किसी लकीर को बार-बार पीटने से भी नहीं 
आ सकता.
ये कोई सीईओ बन जाने या बड़ा अफ़सर बन जाने 
से भी आ जाए, ये भी कहना मुश्किल है.


कोई भी आदमी अपने माइंड को मल्टी - डायमेंशनल जोन में तभी ले जा सकता है,
जब
या तो बाय बर्थ ऐसा जन्मे
या उसने जीवन में लगातार संघर्षों को 
लाइव फेस किया हो
और डरने की बजाय निडर होने का चुनाव किया हो
या जिसने भेदभाव की इंतिहा देख ये संकल्प 
लिया हो कि
सबके लिए कॉमन और अच्छा मॉडल डेवेलप करना है.


ये आर्डिनरी से एक्स्ट्रा-आर्डिनरी जर्नी पर जाने का सफ़र है
जिसमें प्रशंसा, आलोचना, सुख, दुःख, सक्सेस, फेलियर, वाद – विवाद जैसी बातें पीछे छुट जाती हैं
और सबके लिए स्माइल, रिसोर्स मैनेजमेंट, 
हैप्पीनेस, निडरता, स्टेबिलिटी 
और अपनेपन का एहसास लाना
सबसे इम्पोर्टेन्ट आस्पेक्ट बन जाता है.


अगर आप ऐसे किसी आदमी को अपना लीडर 
चुन सकते हैं
तो यक़ीनन वो समय तो ले सकता है
लेकिन आपके विश्वास और उम्मीदों का पूरा होना 
तय हो जाता है.


अच्छा लीडर
चाहे वो देश का हो,
किसी राज्य का,
आपके जिले का
या आपके घर का
वो सबकी ख़ुशहाली के लिए ही प्रयास करेगा.


शुरू में आपको कैसा भी लगे
लेकिन एक समय पश्चात आपको
अपने डिसिशन पर गर्व होगा.


इन दिनों आप देख सकते हैं कि पूरे देश में
आदमी का दर्द कम हो रहा है 
और खुशियों के दरवाजे खुलने लगे है.
ये नए दौर की लीडरशिप है
और इसमें छल-प्रपंच के नाटक ज्यादा दिन 
कैसे टिक सकेंगे?

समय बदल रहा है.
कुछ अपने पराए हो रहे हैं
और कुछ पराए अपने.
ये इमोशन का दौर है.


अच्छी चीज़ ही हमेशा टिक सकती है.
घर में भी और बाहर भी.
अपना विस्तार पॉजिटिव रखना.


इमेज सोर्स: गूगल








No comments: