Nov 3, 2019

स्मोग से करेंगे सबका स्वागत.





ये धुंध के दिन हैं.
भीनी-भीनी धुंध को फ़ील करने के दिन.

लेकिन अचानक चीज़ें बदल जाती हैं.
ये क्या?
सूरज की पहली किरण के साथ
आपने कमरे की खिड़की खोली
और हवा बिलकुल अजीब सी.
स्मोग से हो रहा है स्वागत. 

सांस लेने में परेशानी,
आँखों में जलन,
बेहद खतरनाक AQI लेवल.

AQI यानि एयर क्वालिटी इंडेक्स.
अगर AQI, 0 और 50 के बीच है, 
तो ये वरदान है
यानि जिस क्वालिटी के आप हैं,
उसी क्वालिटी की हवा आपको मिल रही है.

51 और 100 के बीच का AQI यानि 
संतोषजनक क्वालिटी की हवा,
आपके सहने लायक.

101 और 200 के बीच मीडियम क्वालिटी की हवा,

 201 से 300 के बीच खराब क्वालिटी की हवा,

301 से 400 के बीच के AQI का सीधा सा मतलब है
कि बहुत ही खराब क्वालिटी की हवा,

और 401 से 500 के बीच का AQI मतलब
सीरियस डैमेज कर सकने वाली क्वालिटी की हवा.

ये गंभीर इशू है.
किसी के साथ कुछ भी हो सकता है.

आखिर आप सबकुछ तभी हैं, 
जब आपके पास सही क्वालिटी की साँसे हों,
और आप उसे तरीके से अंदर-बाहर घुमा सकें.

अगर ऐसा AQI या किसी और भी वजह से 
नहीं हो रहा है तो
आपका विकेट कभी भी गिर सकता है.

इन दिनों हवा ने अपना रुख साफ़ कर दिया है.
जैसा बर्ताव आप इसके साथ करेंगे,
ये रिप्लाई भी उसी क्वालिटी का देगी.

कुल-मिलाकर दिल्ली और उसके आस-पास 
जबरदस्त AQI लेवल चल रहा है.
ये उम्मीदों से बहुत ज्यादा बढ़ा हुआ है.
इसके जो भी कारण बताए जा रहे हों,
लेकिन एक बात कॉमन है कि
कोई भी कारण पैदा तो इंसान ही कर रहे हैं.  

दुःख या तकलीफ़ कहीं ऊपर से नहीं टपक रही हैं.
ये इंसानों के द्वारा ही पैदा किया गया कांसेप्ट है,
और वो ही इसे सुख या ख़ुशी में बदल सकते हैं.

एक अच्छी सोच,
एक अद्भुत विज़न
और भविष्य के अच्छे AQI लेवल के लिए
एक इंसान का QI यानि क्वालिटी
इंडेक्स भी शानदार होना ही चाहिए.
तभी आप एक अच्छी हवा साबित होंगे,
खुशबूदार और आनंदित हवा.

और हवा अपना रुख फ़िर बदल लेगी.
उसे बस आपके सही इनपुट का इंतजार है.

अब धुंध भी जीना चाहती है,
बिना मिलावट के.
उसकी हेल्प कीजिए
और फ़िर आपके सपनों की दिल्ली दूर नहीं.


इमेज सोर्स: गूगल







No comments: