Feb 4, 2020

तसल्ली करना भी जरुरी है. फ़िर, बेचैनी कम हो जाती है.





कुछ के लिए, आप अनजान रह जाते हैं,

कुछ, आपके लिए अनजान रह जाते हैं.


केयर करने वाले, अच्छी सलाह दे जाते हैं.
ध्यान रखने वाले, साथ निभा जाते हैं.
लापरवाह साथी, अवॉयड करके ख़ुश होते हैं.
न्यूट्रल दोस्त, समझदार पैकेज होते हैं.


दुश्मन जैसी कोई केटेगरी नहीं होती.

मन की सारी दुविधा है.
मन की सारी सुविधा है.
ये सबके साथ होता है.
कॉमन चीज़ें हैं.

जिसको जैसा पसंद है, वो वैसा ही चुन लेता है.
फ़िर चाहे वो दोस्त हों, करियर हो या लाइफ़ हो.

पेड़ को आकाश कितना ही पसंद हो,
लेकिन एक पेड़ के साथ उसे सहूलियत है.
कुत्ते को शेर कितना ही पसंद हो,
सहूलियत उसे कुत्ते के साथ ही रहती है.
सांप को नेवले के साथ कितना ही प्यार हो,
सेफ वो सांप के साथ ही है.
छोटी-मोटी घटनाओं से स्वभाव डिस्टर्ब
तो हो सकता है, बदल नहीं सकता.

आदमियों को थोड़ी और ज्यादा सहूलियत है.
वो आकाश भी छू सकता है
और पाताल में भी समा सकता है.
उसको कम्युनिकेशन प्यारा है,
इसलिए नई चीज़ों के प्रति उत्साह है.

बाकि सभी जीव, स्वभाव से, 
अलग-अलग कंट्रोल्ड हैं.
नेचर, सबको बैलेंस कर के रखने में एक्सपर्ट है,
वरना खुद को बेस्ट दिखाने के चक्कर में
सभी काट दिए जायें.


इंसान, थोड़ा शंकालु है,
क्यूरियस है,
सेविंग से थोड़ा ज्यादा ही इकठ्ठा करने की
इच्छा रखता है.
फ़िर घूमता-भटकता भी है.
बाकी सब जीवों में, इतना दिमाग
या झंझट नहीं डाला गया है.

सब इंसान से डरते है
कि कहीं अपने प्रॉफिट के लिए
हमें ही ना लपेट दे.

लेकिन एक लेवल के बाद,
इंसान हो या कोई और जीवन,
ले कर कुछ नहीं जा सकता.
या तो वो बोध के साथ वापसी करेगा
या किसी बड़े सबक के साथ.

इसके अलावा सबकुछ मन की दौड़ है.
कोई कैसे चाहे दौड़ ले.
तसल्ली करना जरुरी भी है.
फ़िर, बेचैनी कम हो जाती है.

किसी का भी.
यहाँ पैदा होना,
परमात्मा द्वारा दिया गया,
सबसे बड़ा सम्मान है.

कोई उसे कैरी – फॉरवर्ड कैसे करता है,
ये उसकी अपनी बुद्धि का एक्सपेरिमेंट है.

आपकी दोस्ती, जिंदगी और दूसरी चीज़ें
कैसा भी रियेक्ट करें,
लेकिन
एक समय बाद,
सब चीज़ों का इफ़ेक्ट,
जीरो हो जाता है.
केवल, आप रह जाते हैं.

उस समय आप मुस्कुराते हुए बीतने चाहियें.
ये ही, वक़्त की इच्छा रहती है.


इमेज सोर्स: गूगल

No comments: