Feb 7, 2020

रेड पेन लेना. ब्लू तो नार्मल है ही.





जीवन की ABCD में,
आप कोशिश करते हैं कि सबके 
लिए अवेलेबल रहें,
लेकिन लाख कोशिशों के बाद भी
कुछ ना कुछ मिस रह जाता है.

कभी कोई रिश्ता चुप हो जाता है
या कोई दोस्त छूट जाता है
या कोई काम पेंडिंग रह जाता है.
स्ट्रेस सर पकड़ लेता है.

कभी कभी ऐसा नहीं हो पाता कि
आपका सोचा हर प्लान समय पर पूरा हो जाए.

ऐसा हो जाता है कि
कि आप आराम करना चाहते हों और
चीज़ें आपको बिजी कर दें.

ऐसा हो जाता है कि
कि आप कहना कुछ चाहते हैं
औए सामने वाला उसे वैसा नहीं समझ पाये.

ऐसा हो जाता है कि
आपने सेलिब्रेशन का मूड बनाया
और अचानक से कोई ऐसी प्रॉब्लम निकल आई
कि सेलिब्रेशन तो दूर चाय का कप 
भी नसीब ना हो सका.

ऐसा हो जाता है कि
आपका बर्थडे हो और
जिससे विश की, आप सबसे ज्यादा 
उम्मीद कर रहें हों,
वो या तो बाहर हो या 
आपका बर्थडे भूल ही जाए.

ऐसा हो जाता है कि
आपको इन्क्रीमेंट मिलने का इंतजार था और
कंपनी ने लोस डिक्लेअर कर दिया.

ऐसा हो जाता है कि
आपने सोचा था ये हो,
लेकिन हो वो जाता है.

अक्सर ऐसा हो जाता है.
बच्चे वो नहीं करते, जो आप चाहते हैं.
पार्टनर वो नहीं सुनते, जो आप सुनाना चाहते हैं.
फ़ायदा वैसा बिलकुल नहीं होता, 
जैसा आपको चाहिए था.
नतीजा, स्ट्रेस सर चढ़ कर नाचने लगता है.

अक्सर ऐसा हो जाता है.
आप चुनते A को हैं और सामने 
Z आकर खड़ा हो जाता है.
आप चाहते हैं क्रिकेट को और 
आपको फुटबॉल चुनना पड़ता है.

तो जब भी ऐसा कुछ हो जाए
तो घबराइए मत.
बल्कि इस स्ट्रेस को एक नया मीनिंग दे डालिए.

अपनी पसंद का एक पेन और 
एक पतला रजिस्टर खरीदें.
रजिस्टर के लेफ़्ट पेज पर अपनी समझदारियां
और राईट पेज पर अपनी बेवकूफियां,
पॉइंट टू पॉइंट लिख डालिए.
इस ट्रेंड को कंटिन्यू करने की कोशिशें जारी रखिए.

कुछ दिनों बाद आप देखेंगे
कि जब-जब, आपकी बेवकूफियां ज्यादा होती हैं
तो आप रिलैक्स्ड और हंसमुख फ़ील करते हैं
और जब, समझदारियां ज्यादा होती हैं
तो स्ट्रेस और सीरियसनेस बढ़ जाती हैं.
ये तरीका प्रैक्टिकल भी है.

तो आगे से, जब भी आपको लगे कि
आपकी पसंद का कुछ नहीं हो रहा है
तो तुरंत चेक कीजिए कि
लेफ़्ट और राईट में से
किसका पलड़ा भारी है
और आप यक़ीनन मुस्कुरा उठेंगे,
बिना किसी से उम्मीद के.

अब जीना हल्का और आसान है.
और ऐसा ही होता है.

अच्छा, एक बात और.
रेड पेन लेना. ब्लू तो नार्मल है ही.
टेक केयर.



इमेज सोर्स: गूगल

No comments: