Mar 20, 2020

साहब भी पूरे सोशल थे.





समय के साथ, 
हर चीज़ प्रभावित करती चलती है.
कोई लाख़ समझाए,
लेकिन समझ तभी आता है,
जब ख़ुद के अनुभव में, कोई चीज़ आए.

उससे पहले तक, अटकलें, इफ्स और बट्स,
साइकोलॉजिकल एक्सरसाइज तो चल सकती हैं,
तसल्ली, ख़ुद के साथ, 
कुछ बीतने पर ही हो पाती है.

इसलिए कोई भी सच जानना हो,
तो उसके अनुभव से, ख़ुद को, गुजरना ही होगा.
दूर से देखने पर ही, सच दिखाई देने लगे तो
कोई झूठ बोले ही क्यों?

दूसरों के अनुभवों का फ़ायदा, लिया जा सकता है,
उनका इस्तेमाल, सही दिशा में चलने के लिए,
आपको उत्सुक कर सकता है,
चलना मगर आपको, पहले पड़ेगा.


एक बार की बात है.
किसी देश के प्रधानमंत्री के लिए,
उनकी सरकार के ही एक मंत्री,
कुछ आम लेकर आए.
मंत्री चाहते थे कि साहब,
ये मीठे और हर्बल आम खाएं और
इसके स्वाद का आनंद लें.

साहब भी पूरे सोशल थे.
बोले – पहले, आप पूरे मंत्रिमंडल को आम चखाइए
और स्वाद बताइए कि कैसा है?
सबने एक-एक आम पिक किया और खाया.
अपने-अपने स्वाद के अनुभव साहब को बताए,
लेकिन साहब को आम के स्वाद के बारें में,
कुछ ख़ास समझ नहीं आ सका.

ये ठीक वैसा ही था कि कोई प्रोजेक्ट लीडर,
जिसने ख़ुद कभी कोई प्रेजेंटेशन ना दी हो और
औरों की प्रेजेंटेशन देख कर, उनकी प्रोग्रेस का एनालिसिस करे.

रिजल्ट अच्छे आने के चांस, कम तो होंगे ही.

खैर,
फ़िर साहब ने,
अपने सबसे ख़ास और 
बुद्धिमान मिनिस्टर को तलब किया
ताकि वो आम के स्वाद की 
रियल फीलिंग जान सके.

ये मिनिस्टर, दूसरों से थोड़ा अलग निकला.
उसने एक प्लेट और चक्कू मंगवाया.
आम काटा और साहब के सामने रख दिया.
फ़िर कहा, एक टुकड़ा खा कर देखिए.

साहब ने आम चखा और कहा –
वाह. बेहद स्वादिष्ट, कमाल का मीठा फल है.
साहब ने जब पूरा आम, लपेट दिया,
तब मीटिंग लेते हुए बोले कि
अब मुझे समझ आया है कि, 
आम होता क्या है?

मिनिस्टर ने जवाब दिया कि
जनाब, अगर आप ये आम, 
ख़ुद खाकर ना देखते तो
आपको कभी भी, 
इसकी असली मिठास का पता, 
शायद ही चल पाता
और तब तक आप, 
सिर्फ़ अपनी एक राय बना कर रखते चलते,
जो 100% ग़लत होती.
साहब बोले – बिलकुल सही फ़रमाया.

तो ठीक इसी तरह,
सभी को अपनी पहली प्रेफरेंस,
अपने अनुभव को देनी चाहिए
और फ़िर दूसरों की सीख और गाइडेंस को,
उसमें जोड़ देना चाहिए.
तब, काम मजबूत हो जाता है.
जैसे फेविकोल का मजबूत जोड़.
फ़िर इसके टूटने के चांस, 
बेहद कम होंगे.



इमेज एंड इंफो सोर्स: इंटरनेट



No comments: